करवा चौथ विशेष: शुक्र हो चुका है अस्त, इस बार सुहागिनें नहीं कर पायेंगी ये काम

करवा चौथ विशेष: शुक्र हो चुका है अस्त, इस बार सुहागिनें नहीं कर पायेंगी ये काम

करवा चौथ व्रत, जिसका सभी सुहागिन स्त्रियां साल भर इंतजार करती हैं और इसकी सभी विधियों को बड़े श्रद्धा-भाव से पूरा करती हैं. करवाचौथ का त्यौहार पति-पत्...

अमेरिका हुआ भारत से नाराज, अब तक का सबसे बड़ा झटका देने की तैयारी में
अब बाज़ार में नज़र नहीं आएगी नकली दवाएं, सरकार ने ‘ट्रेस एंड ट्रैक’ सिस्टम को दी मंजूरी
केरल के ज्योतिषी की बड़ी भविष्यवाणी: राजस्थान में गठबंधन तो एमपी में बदलेगा मुख्यमंत्री

करवा चौथ व्रत, जिसका सभी सुहागिन स्त्रियां साल भर इंतजार करती हैं और इसकी सभी विधियों को बड़े श्रद्धा-भाव से पूरा करती हैं. करवाचौथ का त्यौहार पति-पत्नी के मजबूत रिश्ते, प्यार और विश्वास का प्रतीक होता है. कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का व्रत किया जाता है. कार्तिक मास की चतुर्थी जिस रात रहती है उसी दिन करवा चौथ का व्रत किया जाता है. अंग्रेजी केलेंडर के अनुसार इस साल यह व्रत 27 अक्टूबर को किया जाएगा.करवा चौथ

इस बार करवा चौथ शनिवार 27 अक्टूबर को मनाया जा रहा है. मान्यताओं के मुताबिक किसी भी व्रत के आखिर में या एक समय के अंतराल तक व्रत करते रहने के बाद उसका शास्त्रोक्त विधि से उद्यापन करना आवश्यक होता है, तभी उसका सही फल मिल पाता है. इस दिन सभी शादी-शुदा सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखेंगी. तो कुछ अपने व्रतों का उद्यापन करेंगी.

दरअसल, किसी बीमारी या इच्छा के चलते जो महिलाएं करवा चौथ का व्रत रखने में असमर्थ होती हैं, वो करवा चौथ (Karwa Chauth) के दिन ही अपने व्रत का उद्यापन कर सकती हैं. लेकिन इस बार महिलाएं अपने करवा चौथ के व्रत का उद्यापन नहीं कर पाएंगी.करवा चौथ

हिंदु मान्यताओं के मुताबिक जब भी शुक्र अस्त रहता है, उस दौरान व्रत का उद्यापन नहीं किया जाता. हालांकि पूजा-पाठ, उपवास या फिर बाकि किसी भी धार्मिक कार्यों में किसी प्रकार की कोई बाधा नहीं आती. इस बार शुक्र करवा चौथ से 11 दिन पहले यानी 16 अक्टूबर को अस्त हो चुका है. ऐसे में जो भी महिलाएं 27 अक्टूबर को अपने करवा चौथ व्रत के उद्यापन के बारे में सोच रही थीं, उन्हें एक और साल का इंतज़ार करना होगा.

COMMENTS