विकराल रूप धारण करती जा रही घग्घर नदी, खतरे के निशान से ऊपर पहुंचा पानी- लोगों में दहशत

विकराल रूप धारण करती जा रही घग्घर नदी, खतरे के निशान से ऊपर पहुंचा पानी- लोगों में दहशत

सुमित विर्क सिरसा: ओटू हैड से आगे घग्घर नदी विकराल रूप धारण करती जा रही है । गत 24 घंटे में 12000 क्यूसिक पानी छोडऩे के चलते नदी के बीच खेतों में खड़ी...

विकराल हुई घग्घर- 10 घंटे में 5 फुट तक बढ़ा जलस्तर, कई गाँवों का आपसी सम्पर्क टुटा
निजी स्कूल संचालक पर 11वीं के छात्र से मारपीट करने का आरोप, अस्पताल में भर्ती
गणतन्त्र दिवस के मौके पर सिरसा जिले को सीएम की सौगात, इस सुविधा वाला सिरसा होगा हरियाणा का चौथा जिला

सुमित विर्क सिरसा: ओटू हैड से आगे घग्घर नदी विकराल रूप धारण करती जा रही है । गत 24 घंटे में 12000 क्यूसिक पानी छोडऩे के चलते नदी के बीच खेतों में खड़ी फसलें डूबने लगी है। ऐसे में किसान जान जोखिम में डालकर धान की फसल काटने को मजबूर है।घग्घर नदी

राजस्थान साईफन के साथ लगते किसान महला सिंह ने बताया कि नदी में उनकी 20 एकड़ 1509 धान पक रही है । वीरवार को उन्होंने ट्रैक्टर की टयूब में हवा भरकर, उसके सहारे तीन एकड़ धान काटी है। अगर पानी का स्तर ओर बढ़ता है तो बाकी धान नहीं काटी जा सकेगी। उन्हें मजबूरी में यह 7 दिन पहले धान काटनी पड़ी है । उधर अन्य किसान अमरीक सिंह, मनदीप सिंह राडिया मलकीत सिंह, पूर्ण सिंह, बिल्लू सिंह ने बताया कि उन लोगों का भी धान पक गया है । अब पानी भर जाने के कारण खराब होने की चिंता है, ऐसे में उन्हें इसी तरह पानी में ही हरे धान की कटाई करनी पड़ेगी। वहीं पूरी तरह से सूखा न होने के कारण अभी ही धान को थ्रेसर के माध्यम से निकाला जा रहा है । अगर इसे सूखने के लिए रखेंगे तो खराब होकर काला हो जाएगा ।

आपको बता दें की पिछले कुछ दिनों से हो रही भारी बारिश से घग्घर नदी में पानी का जलस्तर बढ़ता जा रहा है । घग्घर के दोनों ओर बसे गांवों का आपस में संपर्क टूट चुका है । सभी गांवों द्वारा घग्गर पार करने के लिए बनाए गए आरजी पूल डूब चुके है । इलाके में से 6 पुल हैं जो सभी  पूरी तरह से डूब गए हैं । इनमें  मस्तान गढ़ संत नगर  को अमृतसर, नाकोड़ा को शेखू खेड़ा,  कृपाल पट्टी करीवाला से दया सिंह खेड़ी तलवाड़ा खुर्द, कुत्ताबढ से रानियां,  हर्निया से ठोबरिया आदि  शामिल है । ग्रामीणों को इधर-उधर जाने के लिए कई-कई किलोमीटर दूर से होकर आना-जाना पड़ रहा है ।घग्घर नदी

गौरतलब है की गुरूवार शाम को घग्घर किनारे बसे गाँव फिरोजाबाद के पास बांध में दरार आने से एक बारगी तो घग्घर नदी के टूटने के चांस बन गए थे । लेकिन मौके पर प्रशासन और ग्रामीणों की सजगता और अथक प्रयासों से दरार को मौके पर ही पाट दिया गया । अगर कुछ लापरवाही हो जाती तो कोई बड़ा हादसा हो सकता था । आपको बता दें ये वही जगह है जहाँ 2010 में भी बाँध टूट गया था और बहुत बड़े पैमाने पर तबाही हुई थी । इसके अलावा भी सिरसा के खैरेकां गाँव के पास भी घग्घर का पुल पानी की वजह से धंस गया । ट्रेफिक को डाइवर्ट किया गया है ।

COMMENTS