PNB घोटाले के बाद जागी सरकार, इन 12 डिफाल्टरों पर बकाया 3 लाख करोड़ वसूलने की तैयारी

PNB घोटाले के बाद जागी सरकार, इन 12 डिफाल्टरों पर बकाया 3 लाख करोड़ वसूलने की तैयारी

पीएनबी घोटाले के बाद आखिरकार सरकार ने बकायादारों की लिस्ट खंगालने का काम शुरू कर दिया है. सरकारी बैंको द्वारा दिए क़र्ज़ का एक बड़ा हिस्सा कॉर्पोरेट क्षे...

भारत के लिए खतरे की घंटी, पाकिस्तान बन सकता है दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी एटमी ताकत
सपना चौधरी का हरियाणा के बाद यूपी- बिहार में धमाल, भोजपुरी फिल्म में कर रही है आईटम नंबर
…तो एक दिन POK होगा भारत में शामिल- केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री

पीएनबी घोटाले के बाद आखिरकार सरकार ने बकायादारों की लिस्ट खंगालने का काम शुरू कर दिया है. सरकारी बैंको द्वारा दिए क़र्ज़ का एक बड़ा हिस्सा कॉर्पोरेट क्षेत्र के पास है जो अनुमानित साढे सात लाख करोड़ रूपए है. सरकार द्वारा हाल ही में लाये गए आईबी कोड का मकसद भी यही है कि बैंकों द्वारा दिए गए क़र्ज़ के इस खेल की पूरी तरह से सफाई की जा सके. जल्द ही सरकार द्वारा लिस्ट किये गए 12 बड़े डिफाल्टरों को दी गयी क़र्ज़ चुकाने की समय सीमा भी समाप्त होने जा रही है तब आईबी कोड (इन्सॉलवेंसी ऐंड बैंकरप्सी कोड) की सहायता से इन पर लगाम लगाने की सरकार की योजना है.

आईबी कोड के तहत 1 अप्रैल तक की समयावधि के भीतर या तो डिफाल्टरों को क़र्ज़ चुकाना होगा या फिर उन्हें आईबी कोड की कार्रवाई झेलनी पड़ेगी. इस लिस्ट में सबसे ज्यादा बकाया लैंको इन्फ्राटेक का है जो एक बिजली उत्पादन कंपनी है जिसका बकाया 59 हज़ार करोड़ रु. है और उनकी कर्ज़ लौटने की अवधि 3 मई 2018 को समाप्त हो रही है. दुसरे नंबर पर इस्पात कंपनी भूषण स्टील है उसने 55 हज़ार करोड़ रु. का कर्ज़ चुकाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

तीसरे नंबर पर और अन्य इस्पात कपनी एस्सार स्टील है जिसके बकाया 50 हज़ार करोड़ रु. का ऋण चुकाने की अंतिम तिथि 29 अप्रैल 2018 है. स्टील और बिजली उत्पादन कंपनी भूषण पावर ऐंड स्टील 48 हज़ार करोड़ रु का कर्ज है उसके क़र्ज़ चुकाने की डैडलाइन 22 अप्रैल 2018 है. उसके बाद बड़ा बकायादार आलोक इंडस्ट्री है जिस पर 29 हज़ार रूपए का क़र्ज़ है, उन्हें दी गयी मोहलत 14 अप्रैल को समाप्त होने जा रही है.

इसी तरह एबीजी शिपयार्ड एक जहाज निर्माण कंपनी है उसका 18 हज़ार करोड़ बकाया चुकाने की लास्ट तारीख 28 अप्रैल है. इलेक्ट्रोस्टील स्टील्स पर 13 हज़ार रूपए का कर्ज़ है और उसे चुकाने की अंतिम तारीख 17 अप्रैल है. एमटेक ऑटो पर 12 हज़ार करोड़ रु. का कर्ज है. उसकी डैडलाइन 20 अप्रैल है. बिजली पारेषण कंपनी ज्योति स्ट्रक्चर्स पर आठ हज़ार रूपए बकाया है और अदा करने की तारिख 31 मार्च है. जेपी इन्फ्राटेक, मोनेट इस्पात ऐंड एनर्जी और इरा इन्फ्रा इंजीनियरिंग पर भी करोड़ों की देनदारी बकाया है और उन पर भी अप्रैल माह में क़र्ज़ चुकाने का दबाव है.

COMMENTS