माँ बाप को मरे हो गया चार साल, अब लिया बेटे ने जन्म

माँ बाप को मरे हो गया चार साल, अब लिया बेटे ने जन्म

पड़ोसी देश चीन में ये अनोखा मामला सामने आया है जहाँ एक बच्चे ने अपने माँ-बाप की मृत्यु के चार साल बाद जन्म लिया है. जी हाँ, बिल्कुल सही पढ़ा आपने ! ना ह...

आख़िरकार चीन ने ड़ोकलाम विवाद पर तोड़ी चुप्पी, कहा- कई दौर की बातचीत से निकला हल
यूएन में चीन ने दिया भारत को झटका, दूसरी बार भी मसूद अजहर पर किया वीटो
मुकेश अम्बानी ने दिया चीन को झटका, बने एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति

पड़ोसी देश चीन में ये अनोखा मामला सामने आया है जहाँ एक बच्चे ने अपने माँ-बाप की मृत्यु के चार साल बाद जन्म लिया है. जी हाँ, बिल्कुल सही पढ़ा आपने ! ना ही तो हम अफवाह फैला रहे हैं और ना ही ये कुदरत की गलती है, ये संभव हो पाया है केवल तकनीक की मदद से. चलिए आपको बताते हैं की आखिर ये चमत्कार हुआ कैसे?

चीनी मीडिया के अनुसार 2013 में एक दंपत्ति ने IVF तकनीक की मदद से बच्चे को जन्म देने के लिए अपने भ्रूण जमा किये थे. दुर्भाग्यवश कुछ ही समय बाद दोनों की एक कार एक्सीडेंट में मौत हो गई. इस दुर्घटना के बाद बच्चे के दादा-दादी (मरने वाले दंपत्ति के माँ-बाप) ने भ्रूण को इस्तेमाल की इजाजत के लिए लम्बी कानूनी लड़ाई लड़ी. इस प्रक्रिया के दौरान भ्रूण को लम्बे समय तक संरक्षित करके गया.

कानूनी लड़ाई जब तक चलती रही तब तक भ्रूण को नानजिंग हॉस्पिटल में -196 डिग्री पर नाइट्रोजन टैंक में स्टोर में सुरक्षित रखा गया. आखिरकार बच्चे के दादा-दादी केस जीत गए और उन्हें फर्टिलाइज्ड एग्स का अधिकार मिला. इसके बाद बच्चे के दादा-दादी ने चीन के सीमावर्ती देशों में सेरोगेसी की तलाश की और काफी प्रयत्नों के बाद लाओस में बच्चे को जन्म देने के लिए उनका एक सेरोगेट मदर से सम्पर्क हुआ.

फिर कानूनी प्रक्रियाओं को पूरा करते हुए एक सेरोगेट एजेंसी की मदद से भ्रूण को लाओस ले जाया गया और भ्रूण को सेरौगेट मदर के गर्भ में प्रत्यारोपित किया गया. दिसम्बर 2017 को बच्चे का जन्म हुआ जिसका नाम टिएटियन रखा गया. लेकिन अब चीन में बच्चे को चीन की नागरिकता नहीं मिल रही तो उसे टूरिस्ट वीजा पर चीन लाया गया है. दादा-दादी ने डीएनमए टेस्ट के बाद टिएटिएन को उनका वारिस माना गया.