जानिए क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि, इसका महत्व और व्रत के नियम

जानिए क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि, इसका महत्व और व्रत के नियम

फागुन माह की चतुर्दशी तिथि को महा शिवरात्रि का त्यौहार मनाया जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन ही देवाधिदेव भगवान शिव शिवलिंग क...

सावन में ऐसे करें भोलेनाथ को प्रसन्न, सम्पूर्ण व्रत विधि एवं मुहूर्त
MahaShivratri 2019: सोमवार को है महाशिवरात्रि, जानिये इस बार क्यों बहुत ख़ास है ये दिन
महाशिवरात्रि विशेष: भगवान भोलेनाथ ने माता पार्वती को बताये थे सफलता के ये 6 सूत्र, आप भी जानिए

फागुन माह की चतुर्दशी तिथि को महा शिवरात्रि का त्यौहार मनाया जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन ही देवाधिदेव भगवान शिव शिवलिंग के रूप में प्रकट हुए थे. इसी वजह से इस दिन शिवलिंग की खास पूजा की जाती है. इसके अलावा अन्य प्रचलित कथा के मुताबिक ब्रह्मा ने महाशिवरात्रि के दिन ही शंकर भगवान का रुद्र रूप का अवतरण किया था. इन दोनों कथाओं अलावा भी कई स्थानों पर मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव और माता पार्वती की शादी हुई थी.maha shivratri pujan kaise Karen

इस बार महाशिवरात्रि का त्यौहार 4 मार्च को पड़ रहा है शुभ मुहूर्त सोमवार शाम 04:28 बजे से शुरू होकर मंगलवार सुबह (5 मार्च 2019) 07:07 बजे तक रहेगा. इस दिन भगवान शिव की पूजा अर्चना और व्रत किया जाता है. भक्त लोग इस दिन भगवान शिव का ही गुणगान करते है और सारा दिन ‘ॐ नम: शिवाय’ का निरंतर जाप करते रहते है, और रात्री में जागरण किया जाता है. महा शिवरात्रि के दिन भगवान भोलेनाथ की पूजा करते समय शिवलिंग के अभिषेक के लिए दूध या पानी में कुछ बूंदे शहद की अवश्य मिलाएं. अभिषेक के बाद शिवलिंग पर सिंदूर लगाएं और उसके बाद धूप और दीपक जलाएं. शिवलिंग पर बेल और पान के पत्ते चढ़ाएं और आखिर में अनाज और फल चढ़ाएं.पूजा संपन्न होने तक ‘ॐ नम: शिवाय’ मन्त्र का जाप करते रहें.

वैसे तो भगवान शिव के व्रत के कोई सख्त नियम नही है. अगर सच्चे मन से भगवान शिव का व्रत किया जाये तो बिना किसी विशेष विधान और मन्त्रों की जानकारी के बिना ही बड़े ही सरल ढंग से किया जा सकता है. महाशिवरात्रि के व्रत को बेहद ही आसानी से कोई भी रख सकता है. इस दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त में नहाकर भगवान शिव की विधिवत पूजा करें. दिन में फलाहार, चाय, पानी आदि का सेवन करें और शाम के समय भगवान शिव की पूजा अर्चना करें. रात के समय सेंधा नमक के साथ बनें व्रत में खाए जाने वाला भोजन खाएं. कुछ लोग शिवरात्रि के दिन सिर्फ मीठा ही खाते हैं. maha shivratri pujan kaise Karen

शिव भक्तों के लिए महाशिवरात्रि का दिन बेहद ही महत्वपूर्ण होता है. इस दिन वो शंकर भगवान के लिए व्रत रख खास पूजा-अर्चना करते हैं. वहीं, महिलाओं के लिए महाशिवरात्रि का व्रत बेहद ही फलदायी माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि महाशिवरात्रि का व्रत रखने से अविवाहित महिलाओं की शादी जल्दी होती हैऔर उन्हें मनचाहा वर मिलता है. वहीं, विवाहित महिलाएं अपने पति के सुखी जीवन और लम्बी उम्र के लिए महाशिवरात्रि का व्रत रखती हैं. सभी भक्त जनों पर भगवान भोलेनाथ की कृपा सदा बनी रहे, इन्ही दुआओं के साथ आपसे मुलाकात करेंगे अगली पोस्ट में. आशा है आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई होगी. सभी भक्तजन कमेन्ट बॉक्स में लिखें- हर हर महादेव.

COMMENTS