मस्त चुटकियाँ- ख़ुशी और गम को जाहिर करने के बाद भी उनको ऐसे रख सकते है गुप्त

मस्त चुटकियाँ- ख़ुशी और गम को जाहिर करने के बाद भी उनको ऐसे रख सकते है गुप्त

आवश्यकता आविष्कार की जननी है. बिना किसी कारण मनुष्य न तो खुश रह सकता है और न ही दुखी, क्योंकि किसी भी प्रकार के हावभाव के लिए कारण होना जरूरी है. कहाव...

दो दोस्तों की मुलाकात और दर्दे दिल की दास्तान
रात को एक लड़की ने मुझसे कपड़े धुलवाए और बर्तन मंजवाये…. राहुल गाँधी के सुपरहिट जोक्स
खबरों का गड़बड़झाला- पॉलिथीन पर बैन के बाद अख़बारों से बने लिफाफे, खबरें कुछ ऐसे जुड़ी

आवश्यकता आविष्कार की जननी है. बिना किसी कारण मनुष्य न तो खुश रह सकता है और न ही दुखी, क्योंकि किसी भी प्रकार के हावभाव के लिए कारण होना जरूरी है. कहावतों, शायरी और मुहावरों के माध्यम से आसानी से अपने विचारों को स्पष्ट किया जा सकता हैं. जैसे-

टूटा दिल तो दुःख में लिखा- मत चाहो किसी को इतना की बाद में रोना पड़े, क्योंकि मित्रो दुनिया दिल से नहीं जरूरत से प्यार करती है.new jokes

जो चाहा वो नही मिला- बच्चपन में जोरों से रोते थे जो पसंद था उसे पाने के लिए और बड़े हुए तो चुपके से रोने लगे जो पसंद है उसे भुलाने के लिए.

बन गई परिभाषा- जिसे चाहा उसे पा लिया उसे किस्मत कहते है, जो किस्मत में नहीं फिर भी उसे प्यार करो उसे मोहबत कहते हैं.

डिफरेंट थिंक- खुबसूरत सेक्रेटरी गुस्से में गलियां देती हुई आई, किसी ने पूछा- क्या हुआ? जवाब मिला- कमीना पूछ रहा था की शाम को फ्री हो? दुबारा पूछा- फिर? जब कहा की हाँ फ्री हूँ तो बॉस ने 70 पेज टाइपिंग के लिए दे दिए.

इंग्लिश पड़ी भारी- पढ़े लिखे शरारती लड़के ने एक कंकर फेंका. कंकर अनपढ़ महिला के मटके को जाकर लगा. लड़का महिला के पास गया और बोला sorry for that. अनपढ़ महिला ने झनाटेदार थपड़ दे मारा. फिर कहा, दहिजरा के नाति ! एक तो घड़ा फोरि दिहिस और ऊपर से कहत है “साडी फार देब” हम तोरा करेजा न निकाल देब.

बात मानकर भी न मानना- हाथ में नया फोन देखकर दोस्त ने पूछा- नया फोन कब खरीदा? जवाब- खरीदा नहीं गर्लफ्रेंड का है. वो हमेशा कहती है की तुम मेरा फोन नहीं उठाते हो, आज मौका मिला तो ले आया.new jokes

किसी की शारीरिक क्षमता को स्पष्ट- जब से रॉयल एनफील्ड वालों ने बुलेट में सेल्फ स्टार्ट देना शुरू किया है, तब से एक थप्पड़ में गिरने वाले लड़के भी बुलेट लेके घूमते हैं.

इस प्रकार अपने मन के विचारों को जाहिर किया जा सकता जिससे मन का बौझ हल्का हो जाता है. आप सब-कुछ बताकर भी अपने निजी विचार गुप्त रख लेते हैं.

COMMENTS