मसूद अजहर के खिलाफ भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत, फ्रांस सरकार करेगी संपत्ति जब्त

मसूद अजहर के खिलाफ भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत, फ्रांस सरकार करेगी संपत्ति जब्त

पुलवामा हमले जैसी कायराना हरकत को अंजाम देने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद पर शिकंजा कसता जा रहा है. फ़्रांस सरकार अपने देश में मौजूद जैश-ए-मोहम्मद की...

पुलवामा हमले का बदला: हम भूलेंगे नहीं, हम बख्शेंगे नहीं- CRPF ने लिया प्रण
भारत की एयर स्ट्राइक से बौखलाया पाकिस्तान, आनन-फानन में उठाया ये कदम
पुलवामा अटैक: शहादत का बदला लेगी सेना, पीएम मोदी ने दी खुली छूट

पुलवामा हमले जैसी कायराना हरकत को अंजाम देने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद पर शिकंजा कसता जा रहा है. फ़्रांस सरकार अपने देश में मौजूद जैश-ए-मोहम्मद की संपत्तियों को फ्रीज करेगी. सरकार की ओर से एक बयान जारी कहा गया है कि हम आतंकी मसूद अजहर के संगठन जैश-ए-मोहम्मद की फ्रेंच संपत्तियों को फ्रीज करेंगे. फ़्रांस सरकार ने अपने इस कदम से साफ़ कर दिया है की वो अब आतंकी संगठन को पाई-पाई को मोहताज कर देगा.Global terrorist

एक दिन पहले ही चीन के वीटो ने मसूद को ग्लोबल आतंकी (Global terrorist) होने से तो बचा लिया, लेकिन सदस्य देशों ने उसी वक्त साफ कर दिया था कि मसूद के खिलाफ रास्ते और भी हैं. आपको बता दें की फ्रांसीसी आंतरिक मंत्रालय, वित्त मंत्रालय और विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक संयुक्त बयान में कहा गया है कि फ्रांस मसूद अजहर को यूरोपीय संघ की सूची में शामिल करने पर चर्चा करेगा, जिसमें उन लोगों को शामिल (Global terrorist) किया जाता है जो आतंकी गतिविधियों में शामिल होते हैं.

फ्रांस ने मौद्रिक और वित्तीय संहिता के तहत राष्ट्रीय स्तर पर मसूद अजहर की संपत्ति का फ्रीज करने की मंजूरी दे दी है. इससे पहले संयुक्त राष्ट्र के सुरक्षा परिषद में भारत के साथ फ़्रांस ने भी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी (Global terrorist) घोषित करने का प्रस्ताव रखा था. इस प्रस्ताव के समर्थन में अमेरिका और ब्रिटेन भी था, लेकिन चौथी बार चीन के वीटो के कारण यह प्रस्ताव पास नहीं हो पाया. चीन के इस कदम पर भारत के साथ सभी देशों ने भी अफ़सोस जाहिर किया. अमेरिका ने उसी वक्त साफ़ कर दिया था की अगर चीन मसूद अजहर के खिलाफ अपना रुख साफ़ नहीं करता है तो हमारे पास उस पर कार्रवाही करने के दुसरे विकल्प भी मौजूद हैं.Global terrorist

चीन के इस कदम के बाद से ही अमेरिका और फ्रांस ने मसूद अजहर के खिलाफ अपने स्तर पर कार्यवाही शुरू कर दी है. फ्रांस, अमेरिका समेत कई देशों ने पाकिस्तान पर भारत में हमले करने वाले आतंकी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव डाला हुआ है, जिसमें जैश-ए-मोहम्मद भी शामिल है. जैश ने कश्मीर में हुए 14 फरवरी के हमले की जिम्मेदारी ली थी, 40 CRPF के जवान शहीद हो गए थे.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0