अगर आज ही चुनाव होते है तो ये पार्टी मारेगी बाजी, सर्वे में हुआ चौंका देने वाला खुलासा

अगर आज ही चुनाव होते है तो ये पार्टी मारेगी बाजी, सर्वे में हुआ चौंका देने वाला खुलासा

लोकसभा चुनावों में अब बस कुछ ही समय शेष रहा है, ऐसे में सभी पार्टियों ने अपने चुनावी समीकरण साधने शुरू कर दिए हैं. दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्र...

लोकसभा चुनाव 2019: हो गया लोकसभा चुनाव की तारीख का ऐलान, 7 चरणों में होगा मतदान
Lok Sabha Election 2019: 7 चरणों में होंगे लोकसभा चुनाव, जानिये 10 बड़ी बातें
बड़ी दूर की कौड़ी है केजरीवाल का माफ़ी अभियान, जानिए- क्या है इस अभियान का असली सच?

लोकसभा चुनावों में अब बस कुछ ही समय शेष रहा है, ऐसे में सभी पार्टियों ने अपने चुनावी समीकरण साधने शुरू कर दिए हैं. दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन होने की संभावनाओं पर पूरी तरह से विराम लग गया है. मंगलवार को राहुल गांधी और पार्टी के वरिष्‍ठ नेताओं के साथ बैठक के बाद शीला दीक्षित ने आधिकारिक ऐलान कर दिया कि आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं हो सकता. ऐसे में एबीपी न्‍यूज ने दिल्‍ली की जनता की नब्‍ज जाननी चाही.aap congress gathbandhan

ABP न्यूज़ ने एक सर्वे किया की अगर अभी लोकसभा चुनाव हो जाते है तो दिल्ली की सियासत की तस्वीर क्या होगी? वैसे भी आम आदमी पार्टी और कांग्रेस का गंठबंधन नहीं होने का सीधा फायदा भी भाजपा को मिलता नज़र आ रहा है.सर्वे में अनुमान लगाया गया ही की इस बार लोकसभा इलेक्शन में भाजपा दिल्ली की सभी सातों सीटों पर विजयी रहेगी.

ABP न्यूज़ के इस सर्वे में भाजपा को 47 प्रतिशत वोट शेयर मिलने का अनुमान है जबकि आम आदमी पार्टी को 20 जबकि कांग्रेस को 22 प्रतिशत वोट शेयर मिलने का अनुमान है. आपको बता दें कि पुलवामा हमले से पहले भी दिल्‍ली में भाजपा मजबूत दिखाई दे रही थी. इसी बीच खबर आई कि कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने दिल्‍ली कांग्रेस के कार्यकर्ताओं से बातचीत करने के बाद आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन करने से इंकार कर दिया. पुलवामा हमले से पहले किए गए सर्वे में बीजेपी को 45 फीसदी वोट शेयर, कांग्रेस को 24.5 फीसदी वोट शेयर और आप को 23 फीसदी वोट शेयर मिलता दिख रहा था.

इसका मतलब साफ है कि दिल्ली में लोग इस लोकसभा चुनाव में बीजेपी पर ही भरोसा जता रहे हैं. हालांकि, सर्वे में ये भी बात सामने आ रही है कि अगर आम आदमी पार्टी और कांग्रेस का गठबंधन हो जाता तो बीजेपी को कुछ सीटों का नुकसान उठाना पड़ सकता था. सर्वे के मुताबिक आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के हाथ मिलाने से लोकसभा चुनावों में बीजेपी को चार सीटों पर ही जीत हासिल होती जबकि कांग्रेस और आप के खाते में तीन सीटें जातीं.aap congress gathbandhan

सर्वे के नतीजों के मुताबिक दिल्ली में एक बार फिर कांग्रेस सत्ता से दूर रहती दिख रही है. सर्वे के अनुसार दिल्ली में एक बार फिर आम आदमी पार्टी की सरकार बन सकती है. यानी दिल्ली की जनता मुख्यमंत्री के रूप में अरविंद केजरीवाल को पसंद कर रही है. अगर अभी दिल्ली में विधानसभा चुनाव होते हैं तो आप को 39 सीटें मिलने का अनुमान है. आपको बता दें की दिल्ली बहुमत के लिए 36 सीटें चाहिए. वहीं बीजेपी को 26 तो कांग्रेस को महज 5 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है. सी वोटर ने एबीपी न्यूज़ के लिए दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों पर सर्व किया. ये सर्वे 25 फरवरी से 3 मार्च के बीच किया गया.

COMMENTS

WORDPRESS: 1
DISQUS: 0