आज के दिन जन्मी नन्ही परियों की चाँदी, माँ-बेटी दोनों को सरकार का तोहफा

आज के दिन जन्मी नन्ही परियों की चाँदी, माँ-बेटी दोनों को सरकार का तोहफा

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में विजय रूपाणी की सरकार ने राज्य में 8 मार्च को जन्म लेने वाली लड़कियों को विशेष तोहफा देने की योजना बनाई है. अंत...

अगर महसूस होता है कभी-कभी शरीर में सुन्नापन, तो हो जाएं सावधान ये है गंभीर खतरे का संकेत
सावधान- हैप्पी न्यू इयर बोला तो मिलेगी ये सज़ा, बीजेपी विधायक ने बताया नववर्ष सेलिब्रेशन को गंदगी
भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में मोदी ने दोहराया किसानों की आय दुगुनी करने का वादा

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में विजय रूपाणी की सरकार ने राज्य में 8 मार्च को जन्म लेने वाली लड़कियों को विशेष तोहफा देने की योजना बनाई है. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस को धूमधाम से मनाने के साथ ही गुजरात में बच्चियों के जन्म को प्रोत्साहन देने हेतु ‘नन्ही परी अवतरण’ के नाम से एक नई पहल की शुरुआत की है. सरकार ने कहा है कि राज्य में लड़कों के जन्म दर की तुलना में लड़कियों के जन्म दर में कमी आई है जो वाकई चिंता का विषय है.

‘नन्ही परी अवतरण’ की योजना के अंतर्गत राज्य में 8 मार्च को जन्म लेने वाली लड़कियों को सरकार की तरफ से गुलाब का फूल और चांदी का सिक्का दिया जायेगा. इसके साथ ही लड़की को जन्म देने वाली प्रसूता को एक ‘ममता’ किट दी जाएगी. एक रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात में लड़कों और लडकियों की संख्या में काफी फासला है. राज्य में एक हज़ार लड़कों की तुलना में लड़कियों की संख्या मात्र 848 ही है.

गौरतलब है कि सरकार प्रधानमंत्री मोदी की ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ योजना को लागु करने और बालिका लिंगानुपात को कम करने के लिए जी तोड़ कोशिश कर रही है लेकिन गुजरात (प्रधानमंत्री के गृह राज्य) में ही लिंगानुपात में इतना बड़ा फासला सरकार की योजनाओं पर सवालिया निशान लगा रहा है. बालिका बचाओ अभियान के बावजूद गुजरात का बालिका जन्म दर घटकर 2001 की तुलना में और भी नीचे आ गया है. जो 2001 में प्रति हज़ार लड़कों के मुकाबले 886 था.

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी खुद अपने हाथों से अहमदाबाद सिविल अस्पताल और सोला सिविल अस्पताल में जाकर जन्म लेने वाली बच्चियों को गुलाब और 5 ग्राम का चांदी का सिक्का भेंट करेंगे और उनकी माताओं को ममता किट भेंट करेंगे. ममता किट में बच्ची के लिए दो जोड़ी कपड़े, साबुन, टोपी और नेपकिन सहित सभी आवश्यक सामान उपलब्ध रहेगा.

COMMENTS