पंजाब और कर्नाटक में किसानों से कर्जमाफी का वादा करके मुकरी कांग्रेस- प्रकाश जावड़ेकर

पंजाब और कर्नाटक में किसानों से कर्जमाफी का वादा करके मुकरी कांग्रेस- प्रकाश जावड़ेकर

हाल ही में तीन हिंदी भाषी राज्यों में कांग्रेस पार्टी जीत के बाद किसानों की कर्जमाफी के वादे को पूरा करने के नाम पर अपनी पीठ थपथपा रही है, तो दूसरी तर...

डाटा लीक मामले पर फेसबुक को भारत की चेतावनी, कहा- ऐसी हरकत हम बर्दाशत नहीं करेंगे
अब बाज़ार में नज़र नहीं आएगी नकली दवाएं, सरकार ने ‘ट्रेस एंड ट्रैक’ सिस्टम को दी मंजूरी
पूर्वोत्तर में ‘चलो पलटाई’ का जादू, बीजेपी का सफ़र सीधा शून्‍य से सत्ता के शिखर तक

हाल ही में तीन हिंदी भाषी राज्यों में कांग्रेस पार्टी जीत के बाद किसानों की कर्जमाफी के वादे को पूरा करने के नाम पर अपनी पीठ थपथपा रही है, तो दूसरी तरफ बीजेपी ने पंजाब और कर्नाटक में (कांग्रेस शासित) सरकार द्वारा की गई कर्जमाफी पर सवाल उठाना शुरू कर दिया है. बीजेपी ने कांग्रेस पर किसानों पर किसान कर्जमाफी के वादे से पीछे हटने का इल्जाम लगाते हुए कहा है कि अब तो इस राज्यों के किसानों को नोटिस भी आने लगे हैं.

हरियाणा: नगर निकाय चुनावों में बीजेपी की बम्पर जीत, पांचों सीटों पर किया क्लीन स्वीप

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा की, ‘कांग्रेस के लिए वादा करना और फिर उससे मुकर जाना नई बात नहीं रह गई है. कर्नाटक, मध्यप्रदेश और छतीसगढ़ में कांग्रेस ने वादा किया लेकिन उसे नहीं निभाया.’ उन्होंने कहा कि, ‘कर्नाटक में वहां की सरकार ने 45 हजार करोड़ की कर्जमाफी की बात की थी, लेकिन वो भी खोखली साबित हुई’. उन्होंने कहा कि पिछले 6 महीने में कर्नाटक में 397 किसानों ने आत्महत्या की. ये कांग्रेस का ट्रैक रिकॉर्ड है.

जावड़ेकर ने आगे कहा कि पंजाब और कर्नाटक के किसानों का कर्ज माफ तो हुआ नहीं, उलटा किसानों को बैंकों की तरफ से नोटिस दिए जा रहे हैं, उनके खिलाफ मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं. प्रकाश ने आगे कहा कि पंजाब में भी 90 हजार करोड़ की कर्जमाफी की बात की गई थी, लेकिन वहां भी किसानों के साथ धोखा किया गया.

मोदी के मंत्री ने कहा- सबके खाते में आयेंगे 15-15 लाख रूपए

केन्द्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि 50 साल से कांग्रेस की किसान विरोधी नीति के कारण ही किसानों की दुर्दशा हुई है. किसानों को उनकी फसल का सही मूल्य नहीं दिया गया. स्वामीनाथन कमीशन की सिफारिशें मोदी सरकार ने ही लागू की, जबकि कांग्रेस ने इस मामले में कभी कुछ नहीं किया. पांच राज्यों में किसानों को धोखा देकर वादे किए गए. जो हाल कर्नाटक और पंजाब में हुआ, वही मध्यप्रदेश राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी होने वाला है.