पशु पालकों की बल्ले-बल्ले, तीन हज़ार रूपये लीटर बिक रहा दूध, अमेरिका में बढ़ती जा रही मांग

पशु पालकों की बल्ले-बल्ले, तीन हज़ार रूपये लीटर बिक रहा दूध, अमेरिका में बढ़ती जा रही मांग

निरंतर मंदी की मार झेल रहे पशु-पालकों के अच्छे दिन आ गए हैं. देश में जहाँ एक ओर दूध की कीमत 50 से 55 रूपये है वहीं दूसरी तरफ राजस्थान में दूध को तीन ह...

देशी गर्ल प्रियंका चोपड़ा को मिला विदेशी ब्यॉय, रोका सेरेमनी की तस्वीरें हुई वायरल
चूहों ने की एटीएम में सर्जिकल स्ट्राइक, कुतर दिए लाखों के नोट
जन्मदिन विशेष: हिन्दी भाषा के सुप्रसिद्ध साहित्यकार, व्यंग्यकार और हास्य कवि रामकुमार वर्मा

निरंतर मंदी की मार झेल रहे पशु-पालकों के अच्छे दिन आ गए हैं. देश में जहाँ एक ओर दूध की कीमत 50 से 55 रूपये है वहीं दूसरी तरफ राजस्थान में दूध को तीन हजार रूपये प्रतिलीटर में बेचा जा रहा है. आश्चर्य में न पड़ गए ना? लेकिन यह सच है. राजस्थान से ऊंटनी के दूध को अमेरिका में निर्यात किया जा रहा है. अमेरिका में दूध की लगातार बढ़ती मांग को देखते हुए इस दूध की कीमत 50 डॉलर तक पहुंच गई है.

अमेरिका में कैमल मिल्क की मांग दिनोंदिन बढ़ती जा रही है जिसकी वजह से राजस्थान के ऊंट मालिकों की बल्ले-बल्ले हो गई है. कैमल मिल्क की मांग यहाँ की पशु-पालकों के लिए किसी उपहार से कम नही है, जो कैमल मिल्क को बीकानेर, कच्छ और सूरत में मैन्युफैक्चरिंग यूनिटों को मिल्क बेचते है. मिल्क को 200ml के टेट्रा-पैक में बेचा जाता है जबकि प्रोसेस्ड पाउडर को 200 और 500 ग्राम के पैकेटों में भरकर बाजार में बेचा जा रहा हैं.

दूध के इस बिज़नस में अब ई-कॉमर्स कंपनियों ने भी हाथ आजमाना शुरू कर दिया है. जिसकी वजह से यह काम और भी आसान हो गया है, यहां बायर्स और सेलर्स जुड़े रहते हैं. आपको बता दें की कैमल मिल्क के बिज़नस में कई कंपनियां जुड़ी हुई है जिनमें से कुछ कंपनियों ने 6000 लीटर तक कैमल मिल्क हर महीने ऐमजॉन डॉट कॉम पर सेल किया हैं. वर्तमान में कैमल मिल्क काफी स्पेशल बन गया है. ईरान की मसाद यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज के शोधकर्ताओं का कहना है की कैमल मिल्क में गाय के दूध की तुलना में कम लैक्टोज होता है और इस तरह यह उन लोगों के अच्छा विकल्प है जो ज्यादा लैक्टोज नहीं ले पाते हैं.

डॉक्टरों के अनुसार, ऊंटनी का दूध डायरिया का कारण बनने वाले वाइरस का एक अच्छा उपचार होने के साथ- साथ यह आटिज्‍म,  जोड़ों में दर्द, मधुमेह,  डेंगू के इलाज के लिए बेहतर होता है. ऊँटों के विषय में अध्ययन से ज्ञात हुआ है की कैमल मिल्क में इंसुलिन की तरह का तत्व होता है जिससे जानवरों में इंसुलिन की जरूरत कम हो जाती है. हालांकि इंसानों पर असर को लेकर कोई अध्‍ययन नही हुआ है. कैमल मिल्क में ऐसे तत्व होते है जो कई तरह के संक्रमण से होने वाले रोगों से भी बचा सकता है. कैमल मिल्क के पोषक तत्वों के कारण यह आसानी से पच भी जाता है.

COMMENTS