मोदी का किसानों के लिए बड़ा फैसला, फसलों के दाम लागत से डेढ़ गुणा करने को नई खरीद प्रक्रिया को मंजूरी

मोदी का किसानों के लिए बड़ा फैसला, फसलों के दाम लागत से डेढ़ गुणा करने को नई खरीद प्रक्रिया को मंजूरी

आम चुनावों में अब एक साल से भी कम समय रहा गया है. ऐसे में मोदी सरकार ने किसानों के हित में लिए गए अपने फैसलों को अमली जामा पहनाने का काम शुरू कर दिया ...

मोदी सरकार का बड़ा फैसला, अब इलाहाबाद का नाम हो जायेगा प्रयागराज
पढ़ें: ढ़ाई दिन के सीएम येदियुरप्पा से कुर्सी की आँख मिचौनी और किस्मत का खेल
पाकिस्तान ने दी बीजेपी अध्यक्ष को जान से मारने की धमकी, कराची से आया फ़ोन

आम चुनावों में अब एक साल से भी कम समय रहा गया है. ऐसे में मोदी सरकार ने किसानों के हित में लिए गए अपने फैसलों को अमली जामा पहनाने का काम शुरू कर दिया है. मोदी कैबिनेट ने फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य को सुनिश्चित करने के लिए नई कृषि खरीद प्रक्रिया को मंजूरी दे दी है.किसानों

पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई बुधवार को कैबिनेट के बैठक में नई कृषि खरीद प्रक्रिया को मंजूरी दी है. इसके लिए सरकार ने किसानों से महत्वपूर्ण अनाज की खरीद करने के लिए सरकारी प्रक्रिया को सुव्यवस्थित और आसन बनाने के लिए प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए कहा की यह नीति सरकार की पहल का ऐसा हिस्सा है जिससे मूल्‍य के सरकार द्वारा तय दाम से नीचे जाने पर भी किसानों को न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य (एमएसपी) को सुनिश्चित करेगी और इसका लाभ लाभ अधिकांश किसानों को मिलेगा.

इस प्रक्रिया के बाद किसानों के लिए एफसीआई जैसी सरकारी एजेंसियों को अपना खाद्यान्न बेचने की प्रक्रिया  आसान बन जाएगी. इससे पहले जुलाई में सरकार ने किसान की फसल की लागत का कम से कम डेढ़ गुणा दाम दिलाने की दिशा में एक बड़ा कदम उठाया था जिसके अंतर्गत सरकार ने धान के एम एस पी में 200 रूपए प्रति क्विंटल बढ़ाया था. मोदी सरकार का यहाँ फैसला किसानों के हित में एक बहुत बड़ा कदम माना जा रहा है.किसानों

आपको बता दें कि केंद्र की सत्तारूढ़ पार्टी बीजेपी ने किसानों से वायदा किया हुआ था की सरकार उनको उनकी फसलों के लागत का कम से कम डेढ़ गुणा मूल्य दिलाएगी. इसे पूरा करने के लिए सरकार ने इस साल पहली फरवरी को पेश किए गए अपने आखरी पूर्ण बजट में इस वायदे को पूरा करने की घोषणा की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों से संबंधित समिति ने 14 खरीफ फसलों के एमएसपी के प्रस्तावों को स्वीकृत किया था.