प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना में घोटाला, किसानों का करोड़ों का मुआवजा डकार गए बैंक अधिकारी

प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना में घोटाला, किसानों का करोड़ों का मुआवजा डकार गए बैंक अधिकारी

प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना में करोड़ों रूपए के हेरफेर का मामला सामने आया है. यूपी के इलाहाबाद जिले में 1000 से अधिक किसानों के पैसे अधिकारियों ने डका...

मोदी का किसानों के लिए बड़ा फैसला, फसलों के दाम लागत से डेढ़ गुणा करने को नई खरीद प्रक्रिया को मंजूरी
नए साल में किसानों को बड़ा तोहफा, फसलों पर सरकार ज्यादा MSP देने को तैयार
कृषि उपज के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर पीएम मोदी का स्पष्टीकरण, किसानों में ख़ुशी की लहर

प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना में करोड़ों रूपए के हेरफेर का मामला सामने आया है. यूपी के इलाहाबाद जिले में 1000 से अधिक किसानों के पैसे अधिकारियों ने डकार लिए हैं. किसानों को बीमा के तहत मिलने वाली रकम का अधिकारियों ने बंदर बंदर बांट कर लिया है और लगभग 2 करोड़ रुपये से अधिक का घोटाला सामने आया है. मामले में उपनिदेशक कृषि विनोद शर्मा ने 2 बैंक शाखा के प्रबंधकों समेत इंश्योरेंस कंपनी के वरिष्ठ प्रबंधक पर एफआईआर दर्ज कराई है. डीएम ने इस मामले में कमेटी बनाकर जांच शुरू करवा दी है.प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना

सरकार ने इस मामले में कृषि मंत्रालय ने इस मामले पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है, साथ ही सभी डेटा सुरक्षित रखने का निर्देश दिया है. इस बाबत बैंक अधिकारीयों ने किसानों के डाटा में फेरबदल होने के कारण गलती से दुसरे खाते में रकम ट्रांसफर होने की बात कहकर पल्ला झाड़ने की कोशिश की.

जानकारी के मुताबिक इलाहाबाद के मांडा इलाके के किसानों में प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना में अंतर्गत अपनी फसलों का बीमा करवाया हुआ था. इस तहत किसानों में करीब 25 लाख रूपए का प्रीमियम भी भरा. लेकिन जब फसलों में नुक्सान हुआ और कंपनियों द्वारा क्लेम देने की बारी आई तो महज कुछ किसानों के हाथ ही मुआवजा आया. बड़े पैमाने पर किसानों के खातों में हेरफेर करके मुआवजे की बड़ी रकम इधर उधर कर दी गई.

प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना

फसलों के नुक्सान का मुआवजा ना मिलने की सूरत में जब परेशान होकर किसानों में कलेक्ट्रेट में हंगामा किया तो मामले में डीएम ने जांच बैठा दी. जांच में बैंक अधिकारियों व इंश्योरेंस कंपनी द्वारा घालमेल करने की बात उजागर हुई, पता चला कि किसानों के डाटा से छेड़छाड़ कर लगभग दो करोड़ रूपए से अधिक का घोटाला किया गया है. केंद्र सरकार को भेजी रिपोर्ट मामले में उप निदेशक कृषि विनोद शर्मा ने दोनों बैंक शाखा के तत्कालीन प्रबंधक रवि रंजन पटेल व रूपेश कुमार झा के साथ इंश्योरेंस कंपनी के वरिष्ठ प्रबंधक निलेश गर्ग के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराई है.