शर्मनाक: किस लड़की को आया है महिना, ये चेक करने के लिए टीचर्स ने उतरवाए छात्राओं के कपड़े, जाँच शुरू

शर्मनाक: किस लड़की को आया है महिना, ये चेक करने के लिए टीचर्स ने उतरवाए छात्राओं के कपड़े, जाँच शुरू

एक सरकारी कन्या विद्यालय में पढ़ने वाली बच्चियों को ये चेक करने के लिए कि किस लड़की को महिना (माहवारी) आई हुई है, टीचर्स द्वारा कथित रूप से कपड़े उतरवाए ...

अनूठी पहल: ये कंपनी दे रही है राशन का सामान उधार में, महीने बाद बिल चुकाईये बिना ब्याज
मर्दों वाली देशी दवा- दूध के साथ सिर्फ सात दिन करें इस्तेमाल, नतीजे का गुणगान आप खुद करोगे
PNB घोटाले पर बीजेपी ने तोड़ी चुप्पी, कहा-नीरव मोदी के बाद अगला नंबर वाड्रा और राहुल-सोनिया गाँधी का

एक सरकारी कन्या विद्यालय में पढ़ने वाली बच्चियों को ये चेक करने के लिए कि किस लड़की को महिना (माहवारी) आई हुई है, टीचर्स द्वारा कथित रूप से कपड़े उतरवाए जाने का मामला सामने आये है. एक वीडियो क्लिप में कुछ लड़कियां रोते हुए यह शिकायत करती दिख रही हैं कि तीन दिन पहले कुंडल गांव में उनके विद्यालय परिसर में शिक्षिकाओं ने उन्हें निर्वस्त्र किया.लड़की को महिना

मामला पंजाब के फाजिल्का जिले के कुंडल गाँव का है जहाँ कन्या विद्यालय में ये घटना हुई है. मामले के मुताबिक विद्यालय के शौचालय में किसी का फैंका हुआ सेनेटरी पैड देखकर शिक्षिकाएं इस कदर गुस्सा हुई कि सेनेटरी पैड किसने पहना हुआ है, ये चेक करने के लिए कुछ छात्राओं के कपड़े तक उतरवा दिए.

एक आधिकारिक प्रवक्ता ने शनिवार को कहा कि इस मामले को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के संज्ञान में लाए जाने के बाद दो शिक्षिकाओं के तबादले और मामले में जांच के आदेश दिये गए हैं. अधिकारियों ने कहा कि शौचालय में एक सेनेटरी पैड मिलने के बाद शिक्षिकाएं यह पता लगाने का प्रयास कर रही थीं कि किस लड़की ने पैड पहना है.लड़की को महिना

अधिकारीयों के मुताबिक शिक्षिकाओं को बजाये नाराज होने के उन्हें छात्राओं को शिक्षित करना चाहिए था कि सेनेटरी पैड्स का सही तरीके से निस्तारण कैसे करें. मुख्यमंत्री ने शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार को निर्देश दिये हैं कि सोमवार तक जांच पूरी कर आगे आवश्यक कार्रवाई करें. जिला शिक्षा अधिकारी से विद्यालय का दौरा करने को कहा गया था और छात्राओं और उनके अभिभावकों से बात करने के बाद प्रथम दृष्टया दो शिक्षिकाओं की भूमिका के साक्ष्य मिले हैं.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0