मजदूर की चमकी किस्मत, लॉटरी टिकट ने रातोंरात बना दिया करोड़पति, इन पैसों से करना चाहता है ये काम

मजदूर की चमकी किस्मत, लॉटरी टिकट ने रातोंरात बना दिया करोड़पति, इन पैसों से करना चाहता है ये काम

हर इंसान ये सपना देखता है कि वो अमीर बने लेकिन ये सपने अधिकतर लोगों के सपने बनकर ही रह जाते हैं क्योंकि सब की किस्मत मनोज कुमार जैसी नहीं होती. जी हाँ...

PNB घोटाले पर बीजेपी ने तोड़ी चुप्पी, कहा-नीरव मोदी के बाद अगला नंबर वाड्रा और राहुल-सोनिया गाँधी का
SBI का बड़ा फैसला- किसी दुसरे के खाते में नहीं जमा कर सकेंगे कैश, ये है कारण
इंडियन आर्मी ने निभाया एक माँ से किया वादा, जानकार आप भी कायल हो जाओगे भारतीय सेना के

हर इंसान ये सपना देखता है कि वो अमीर बने लेकिन ये सपने अधिकतर लोगों के सपने बनकर ही रह जाते हैं क्योंकि सब की किस्मत मनोज कुमार जैसी नहीं होती. जी हाँ, हम बात कर रहे हैं पंजाब के संगरूर के रहने वाले एक बेहद ही गरीबी में अपने परिवार का पालन पोषण करने वाले मनोज की.लॉटरी

पेशे से मजदूर मनोज कुमार ने जब से होश संभाला तो खुद को घोर गरीबी में ही पाया. मजदूरी और घर में अन्न ना होने की स्थिति में फाका करने की स्थिति उसे विरासत में मिली थी. मनोज भी आम लोगों की तरह अमीर बनना चाहता था. वो भी सोचता था की उसके पास भी हो एक आलिशान बंगला, गाड़ी और भी ना जाने क्या-क्या? इसके लिए उसे लॉटरी खरीदने का चस्का था.

लेकिन अब तक किस्मत ने उसे कभी साथ नहीं दिया फिर भी जब कभी जेब में पैसे ना होते तो भी उधार के पैसे लेकर भी उसने लॉटरी टिकट खरीदना जारी रखा. घरवालों के लाख मना करने के बावजूद उसने लॉटरी खरीदना नहीं छोड़ा. पिछले दिनों उसे पता चला कि पंजाब राज्य राखी बंपर 2018 प्रतियोगिता लॉटरी होने वाली है. यह पता चलते ही उसने इस बार भी ठान लिया कि वह इस लॉटरी के टिकट भी खरीदेगा.लॉटरी

लेकिन इस बार उसकी किस्मत उसके साथ कुछ अच्छा करने का इरादा किये हुए थी. इस बार जब लॉटरी का रिजल्ट आया तो उसकी किस्मत ने पलटा खाया और उसने डेढ़ करोड़ रूपए जीत लिए. मजदूर के इतने सारे रुपए जीतने की खबर पूरे इलाके में आग की तरह फैल गई. खुद मनोज कुमार को जब उसके विजेता होने की जानकारी दी गई तो वो ख़ुशी से रो पड़ा.

मनोज का कहना है कि अब वो अपने सपने पुरे करेगा और बच्चों का दाखिला किसी अच्छे स्कुल में करायेगा. मनोज अपने साथी मजदूरों की भी कुछ सहायता करना चाहता है बकौल मनोज उसके साथ काम करने वाले मजदूर भी पैसे-पैसे को मोहताज है और उनकी हालत भी बहुत दयनीय है और मैं अमीर बनने के बाद भी उनका साथ नहीं छोड़ सकता.

COMMENTS