राम रहीम को हो सकती है फांसी,सुनवाई पूरी 22 को आएगा फैसला

राम रहीम को हो सकती है फांसी,सुनवाई पूरी 22 को आएगा फैसला

साध्वी यौन शोषण केस में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ हत्या के दो अलग-अलग मामलों में शनिवार को कड...

अनूठी पहल: ये कंपनी दे रही है राशन का सामान उधार में, महीने बाद बिल चुकाईये बिना ब्याज
जम्मू-कश्मीर: सेना आई एक्शन के मूड में, ऑपरेशन ‘आल आउट’ के लिए सरकार ने दी फुल पावर
रामनाथ कोविंद ने अपने जन्मदिवस के मौके पर दी बड़ी सौगात

साध्वी यौन शोषण केस में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ हत्या के दो अलग-अलग मामलों में शनिवार को कड़ी सुरक्षा के बीच पंचकूला में सीबीआई की विशेष अदालत में सुनवाई हुई.

पूरा सच संध्या दैनिक के संपादक और पत्रकार रामचंद्र छत्रपति और पूर्व डेरा प्रबंधक रंजित सिंह हत्याकांड मामले में शनिवार को राम रहीम समेत सात दोषियों की आज सीबीआई की विशेष अदालत पंचकुला में अंतिम सुनवाई थी. राम रहीम के अलावा अन्य सातों आरोपी आज सीबीआई की विशेष अदालत पंचकुला में पेश हुए जबकि राम रहीम की पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई.

आपको बता दे की राम रहीम दो दुष्कर्म के मामलों में दोषी करार दिए जाने के बाद से रोहतक के सुनारिया जेल में बंद है. और पत्रकार छत्रपति को अक्टूबर 2002 को गोली मारी गयी थी जो एक माह अस्पताल में जिन्दगी और मौत के बीच जूझते हुए नवम्बर में उनका निधन हो गया था. पूर्व डेरा प्रबंधक रंजित सिंह की भी जुलाई 2003 में गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी. इन दोनों हत्याओं का आरोप डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह पर ही लगा था. आरोपों में कहा गया था की डेरामुखी के निर्देश पर हत्या की घटनाओं को अंजाम दिया गया था.

पत्रकार छत्रपति और रंजीत सिंह की हत्या के मामलों की शनिवार को आरोपियों को न्यायाधीश जगदीप सिंह की विशेष सीबीआई अदालत में अंतिम सुनवाई के लिए अधिसूचित किया गया था. हरियाणा के DGP बी.एस. संधू के अनुसार अहतियात के तौर पर राज्य में सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए सिरसा और पंचकुला में पर्याप्त संख्या में पुलिस और सुरक्षाबलों की तैनाती की गयी थी. और किसी भी स्तिथि से निपटने के लिए प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद था.

गुरमीत सिंह के पूर्व ड्राइवर, खट्टा सिंह को अदालत के सामने मुख्‍य गवाह के रूप में पेश किया गया, हालांकि पूर्व में यही ड्राइवर खट्टा सिंह एक बार अपना बयान बदल चुका है, लेकिन उसका कहना था की यह उसने बाबा और उसके गुंडों के दबाव में किया था. अब ड्राइवर खट्टा सिंह अपना बयां कलमबद्ध करवानालेकिन आगमी 22 नवम्बर को अदालत ये तय करेगी की उसकी गवाही की जरुरत है या नहीं. और फैसला भी 22 तारीख को आ जायेगा.

 

COMMENTS