RBI की चेतावनी- अगर कर दी ये गलती तो हो जायेगा आपका खाता खाली, भूलकर भी ना करें ये गलती

भारत में बैंको का कार्य तकनीकी कंप्यूटर की सहायता से आसान और बाधा मुक्त हो गया है. वर्तमान समय में जितना ऑनलाइन सिस्टम बढ़ा है उतने ही ज्यादा फ्रॉड भी ...

खाते में मिनिमम बैलेंस न रखने पर ग्राहकों को लगी मोटी चपत, बैंकों ने कमाए पांच हजार करोड़
जोक होने जा रहा सच- अगर बैंक गए तो पड़ेगा भारी, 20 जनवरी से हर सेवा का देना होगा चार्ज
बैंगनी रंग में आ रहा है 100 रूपए का नया नोट, पहली बार होगी ये नई खूबी

भारत में बैंको का कार्य तकनीकी कंप्यूटर की सहायता से आसान और बाधा मुक्त हो गया है. वर्तमान समय में जितना ऑनलाइन सिस्टम बढ़ा है उतने ही ज्यादा फ्रॉड भी देखने को मिल रहे है. डाटा कम्पनियों की बदौलत आज बहुत तेजी से इंटरनेट लोगों के घर-घर पहुंचा नजर आ रहा है परन्तु बढती गति के साथ इससे जुड़े फ्रॉड भी बढ़ने लगे हैं. बढ़ते हुए फ्रॉड के नियन्त्रण के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने एक जागरूकता अभियान चलाया है. इस अभियान के तहत आम लोगों को ऑनलाइन फ्रॉड और बैंकिंग से जुड़े सभी लेन- देन को लेकर जागरूक किया जा रहा है.

केंद्रीय बैंक ने बुधवार को बयान जारी किया की उपभोक्ता केंद्रीय बैंक के नाम से आने वाली ईमेल से बचे. उन्होंने बताया की आरबीआई के नाम से आने वाली ईमेल आपके बैंक अकाउंट में जमा पूंजी कमाई साफ कर सकता हैं. भारतीय रिजर्व बैंक का कहना है की जब भी आपके पास ऐसे ईमेल आयें तो इन से सावधान रहे. क्योंकि उसके नाम पर लोगों को कुछ फर्जी ईमेल भेजे जाते हैं. फेक इमेल में कहा जाता है की आप ईनाम जीत चुके है, और इस इनाम के लाखों रुपये का इनाम हासिल करने के लिए प्रोसेसिंग फीस और अन्य चार्ज के तौर पर पैसे ठग लेते हैं.

उपभोक्ता को पर्याप्त जानकारी न होने के अभाव में कुछ लोग बिना सोचे- समझे इनाम की राशि को हासिल करने के लिए पैसे भेज देते हैं. जब तक उनको धोखाधड़ी के बारे में पता चलता पाता है, तब तक उनका हजारों, लाखों रुपयों का नुकसान हो जाता है.

भारतीय बैंक ने ये स्पष्ट किया है की उसकी तरफ से ऐसे ईमेल और मैसेज कभी भी किसी को नहीं भेजे जाते. आरबीआई का कहना है की उनकी तरफ से लॉटरी जीतने अथवा विदेशों से पैसा आने जैसी कोई छोटी बड़ी  जानकारी को किसी भी ईमेल और एसमएस के जरिये नहीं भेजा जाता हैं.

केंद्रीय बैंक का कहना है की ‘रिजर्व बैंक के नाम पर फर्जी ईमेल भेजने वाले आरबीआई और रिजर्व बैंक जैसे बड़े प्रचलित नामों का इस्तेमाल करते हैं. जिस कारण लोगों द्वारा उन पर ज्यादा ध्यान नही दिया जाता लेकिन आपको अगर ऐसे धोखाधड़ी के मामलों से बचना है तो आपके लिए यह जानना आवश्क है की ईमेल किस एड्रेस से आपके पास भेजा गया है. आरबीआई के अनुसार, यदि आपको कुछ भी संधिग्ध होने का आभास हो तो आप उस ईमेल पर अपनी कोई जानकारी सांझा न करें.

COMMENTS