सावन में भगवान शिव की कृपा से पायें मनोवांछित फल, इस बार बन रहा है ये विशेष संयोग

सावन में भगवान शिव की कृपा से पायें मनोवांछित फल, इस बार बन रहा है ये विशेष संयोग

इस वर्ष सावन का महीना दिनांक 28 जुलाई से शुरू होने वाला हैं. ऐसी मान्यता है की सावन के महीने में शिव और पार्वती की पूजा-अर्चना करने वाले की सभी मनोकाम...

सावन में ऐसे करें भोलेनाथ को प्रसन्न, सम्पूर्ण व्रत विधि एवं मुहूर्त
शिवरात्रि विशेष: मुहूर्त को लेकर भ्रम में ना पड़ें- ये है व्रत, पूजा और मुहूर्त की जानकारी
इस शिवरात्रि ऐसे करें भोले को प्रसन्न और करें मनचाही कामना की पूर्ति

इस वर्ष सावन का महीना दिनांक 28 जुलाई से शुरू होने वाला हैं. ऐसी मान्यता है की सावन के महीने में शिव और पार्वती की पूजा-अर्चना करने वाले की सभी मनोकामनाएं सफल होती हैं. वर्ष 2018 में सावन का महीना बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि इस बार सावन में पांच सोमवार और महीने के 30 दिन है. पिछले साल की बात करें तो सावन के महीने में 29 दिन और चार सोमवार थे.

हर वर्ष के चैत्र के पांचवे महीने को सावन का महीना कहते है. हिंदू धर्म प्राचीन काल से ही सावन के महीने का विशेष महत्व रहा है. शिवपुराण में बताया गया है की भगवान शिव ने सावन के महीने में माता पार्वती की तपस्या से खुश होकर उन्हें पत्नी के रूप में स्वीकार कर लिया था, इसलिए कहते है की सावन के महीने में भगवान शिव अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं. ऐसी मानयता है की सावन के महीने में व्रत रखने वाली लड़कियों को भगवान शिव के आशीर्वाद से मनपसंद जीवन साथी मिलता है. सावन के महीने में भगवान शिव का रुद्राभिषेक करने से पद, प्रतिष्ठा और ऐश्वर्य भी मिलता हैं.

सक्रांति की गणना के अनुसार, सावन का महीना 16 जुलाई से शुरू हुआ हैं अर्थात पहला सोमवार निकल चुका हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें की उत्तराखंड, नेपाल और अन्य पहाड़ी इलाकों में निवास करने वाले लोग संक्रांति की गणना को मानते है.

पूर्णिमा के आधार पर गणना करें तो दिनांक 28 जुलाई से सावन शुरू होगा और प्रथम सावन सोमवार दिनांक 30 जुलाई को हैं. पूर्णिमा विधि के अनुसार, इस बार सावन के सोमवार 30 जुलाई,  6, 13 और 20 अगस्त  कुल मिलाकर चार होंगे. यदि हम संक्रांति की गणना को मान्यता दें तो इस बार सावन में पांच सोमवार होने के साथ ही सावन पूर्णरूप से 30 दिनों का है. आपको बता दें की इस बार अधिक मास के कारण पांच सोमवार का योग बन रहा है.

सावन में पांच सोमवार को खास माना जाता है क्योंकि शास्त्रों में कहा गया है की जब भी वर्ष में पांच सोमवार होते है तो रोटक व्रत अवश्य लगता हैं. रोटक व्रत अर्थात पांच सोमवार के व्रत करने से शिवशंकर और माता पार्वती सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं.

COMMENTS