सबरीमाला मंदिर में जबरन प्रवेश करने वाली महिला का हुआ ये ‘हश्र’, अपनों ने ही दी ऐसी सजा

सबरीमाला मंदिर में जबरन प्रवेश करने वाली महिला का हुआ ये ‘हश्र’, अपनों ने ही दी ऐसी सजा

हाल ही में केरल के सुप्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली दो महिलाओं में से एक महिला कनक दुर्गा पर हमला हुआ है. हमला किसी और ने नहीं बल्कि कनक...

ताजमहल पर सुन्नी वक्फ़ बोर्ड का कोई हक़ नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- दस्तावेज दिखाओ
Paytm से Aadhar कार्ड को डी-लिंक करवाना है तो रखें ये सावधानियां, वरना पड़ेगा पछताना
बड़ी दूर की कौड़ी है केजरीवाल का माफ़ी अभियान, जानिए- क्या है इस अभियान का असली सच?

हाल ही में केरल के सुप्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली दो महिलाओं में से एक महिला कनक दुर्गा पर हमला हुआ है. हमला किसी और ने नहीं बल्कि कनक दुर्गा की खुद की सास ने ही किया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जब कनक दुर्गा अपने घर पहुंचीं तो उसकी अपनी सास के साथ बहस हो गई, जिस दौरान सास ने उसके सिर पर जोर से वार किया.सबरीमाला मंदिर

आपको बता दें की हाल ही में कनक दुर्गा के अलावा बिंदू अम्मिनी ने केरल के सबरीमाला के भगवान अयप्पा मंदिर में प्रवेश किया था. सुप्रीम कोर्ट द्वारा महिलाओं के प्रवेश पर लगी रोक को हटाने के बाद मंदिर में घुसने वालीं ये दोनों प्रथम महिलाएं थीं.

मंदिर में लोगों के विरोश के बावजूद जबरन घुसने के बाद जब दुर्गा अपने घर पहुंचीं तो उनका परिवार इससे खासा नाराज था. इसी मुद्दे को लेकर कनक दुर्गा की अपनी सास से बहस हो गई, बहस इतन व्यापक थी कि हाथापाई की नौबत आ गई. बताया जा रहा है कि कनक दुर्गा की सास ने उसके सिर पर वार किया, उन्हें पास के ही एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

कहा जा रहा है की सदियों से चली आ रही प्रथा है कि भगवान अयप्पा के इस मंदिर में रजस्वला उम्र यानी 10 से 50 साल तक की महिलाएं प्रवेश नहीं कर सकती हैं. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले से इस रोक को खत्म कर दिया था. जिसके बाद महिला संघटनों, कट्टरपंथी संगठनों और लाखों श्रधालुओं के विरोध के बावजूद इन्होनें मंदिर में जबरन प्रवेश करके इस परम्परा को तोड़ा है.सबरीमाला मंदिर

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ कई कट्टरपंथी संगठन सड़क पर उतर आए थे, काफी दिनों तक लोग मंदिर की आस्था के नाम पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का विरोध कर रहे थे. सत्ताधारी संगठन भारतीय जनता पार्टी भी मंदिर की प्रथा को बरकरार रखने वाले संगठनों में शामिल है.

COMMENTS