सकुशल वतन लौट आयेंगे विंग कमांडर अभिनंदन, इस वजह से पाकिस्तान उन्हें हाथ भी नहीं लगा सकता

सकुशल वतन लौट आयेंगे विंग कमांडर अभिनंदन, इस वजह से पाकिस्तान उन्हें हाथ भी नहीं लगा सकता

भारत की ओर से पुलवामा अटैक के जवाब में मंगलवार को पाकिस्तान स्थित आतंकी कैम्पों पर एयर स्ट्राइक की गई जिसके जवाब में पाकिस्तान ने भी भारत पर लड़ाकू विम...

आ गई अभिनंदन की मेडिकल रिपोर्ट, फिर झूठा निकला पाकिस्तान, ये है असलियत
विंग कमांडर अभिनंदन की तस्वीर फेसबुक से हटाने के निर्देश, चुनाव आयोग की सोशल मीडिया पर नज़र
सरकार का बड़ा फैसला, इन इलाकों में बंद होगी whatsapp कॉलिंग, जानिये कौन से हैं वो क्षेत्र

भारत की ओर से पुलवामा अटैक के जवाब में मंगलवार को पाकिस्तान स्थित आतंकी कैम्पों पर एयर स्ट्राइक की गई जिसके जवाब में पाकिस्तान ने भी भारत पर लड़ाकू विमान से बमबारी करने का प्रयास किया लेकिन एयरफोर्स की मुस्तैदी से उसे मुंह की खानी पड़ी. हालाँकि, भारत की इस रक्षात्मक कार्रवाई में भारत के भारत की सीमा सुरक्षा करते हुए दुर्घटनावश हमारे एक पायलट अभिनंदन को पाकिस्तानी सुरक्षाबलों ने अरेस्ट कर लिया.pilot abhinandan

हमारे पायलट अभिनंदन के पाकिस्तान में गिरफ्तार होने की वजह से हर देशवासी फिक्रमंद है. लेकिन आपको बता दें की वो पूरी तरह से सुरक्षित हैं और सुरक्षित ही रहेंगे. ये कहना है मेजर जनरल रिटायर्ड केके सिन्हा का. उन्होंने कहा की सही बात तो ये कि जिनेवा युद्ध बंदी एक्ट के तहत पाकिस्तान को हमारे पायलट को रिहा करना ही होगा.

इसके पीछे उन्होंने कारण बताते हुए कहा कि पहला कारण तो ये हैं कि, ‘हमारा मिग-21 सीमा की सुरक्षा में था. पायलट हमारा वर्दी में है,’ दूसरा कारण, ‘पाकिस्तानी सेना मीडिया के सामने ये स्वीकार भी कर चुकी है कि भारतीय वायु सेना का एक पायलट उसके कब्जे में है.’ एक प्रतिष्ठित न्यूज़ चैनल से बात करते हुए मेजर जनरल केके सिन्हा ने कहा कि, ‘कारगिल युद्ध के दौरान फ्लाइट लेफ्टिनेंट नचिकेता का पाकिस्तान में उतरना और पाक सेना द्वारा उन्हें पकड़ना और फिर उनका सही-सलामत वापिस आना एक बड़ा उदाहरण देश के सामने है.’pilot abhinandan

उन्होंने कहा कि, ‘अगर हमारे पायलट को कुछ भी होता है तो ये जिनेवा एक्ट का उल्लघंन होगा और इंटरनेशनल लेवल पर ये एक क्रीमिनल केस होगा. 7 दिन बाद ही पाकिस्तान ने नचिकेता को हमे सही-सलामत लौटाया था. ऐसा ही हमारे मिग के पायलट के साथ भी होगा. वरना जिनेवा एक्ट का उल्लघंन पाकिस्तान को बहुत भारी पड़ेगा. दूसरी बात ये कि मेडिकल सुविधा भी उस पायलट को वैसी ही मिलती जैसे डयूटी के दौरान अपने देश में मिलती.

COMMENTS