सतलोक आश्रम के स्वयंभू ‘बाबा’ रामपाल और 15 अन्य को हत्या के मामलों में उम्रकैद

सतलोक आश्रम के स्वयंभू ‘बाबा’ रामपाल और 15 अन्य को हत्या के मामलों में उम्रकैद

हिसार स्थित सतलोक आश्रम के संचालक स्वंयभू ‘बाबा’ रामपाल को आज जिला सत्र अदालत ने हत्या के दो मामलों में उम्रकैद की सजा सुनाई है. रामपाल के अलावा उनके ...

बाबा रामपाल हत्या के दो मामलों में दोषी करार, 16-17 अक्टूबर को सुनाई जाएगी सजा- धारा 144 लागू
विकराल हुई घग्घर- 10 घंटे में 5 फुट तक बढ़ा जलस्तर, कई गाँवों का आपसी सम्पर्क टुटा
हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के घर सीबीआई का छापा, जानिए क्या है पूरा मामला

हिसार स्थित सतलोक आश्रम के संचालक स्वंयभू ‘बाबा’ रामपाल को आज जिला सत्र अदालत ने हत्या के दो मामलों में उम्रकैद की सजा सुनाई है. रामपाल के अलावा उनके 14 अनुयायियों पर भी हत्या और अन्य अपराधों के तहत उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. इसके साथ ही सभी दोषियों पर 1-1 लाख रूपए का जुर्माना भी लगाया गया है.रामपाल

हिसार की एक सत्र अदालत ने इन सभी दोषियों को हत्या और बंधक बनाने के मामले में सजा सुनाई है. इससे जुड़े एक अन्य मामले में कल (17 अक्टूबर) को भी सज़ा का ऐलान हो सकता है. मंगलवार को इनकी सजा के ऐलान के मद्देनज़र सरकार ने हिसार और इसके आसपास के इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की हुई है.

आपको बता दें कि हिसार के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश डीआर चालिया ने 11 अक्टूबर को हत्या के दो मामलों और अन्य अपराधों में रामपाल समेत 29 लोगों को दोषी ठहराया था. न्यायाधीश चालिया ने हिसार जिला जेल के अंदर एक अस्थायी अदालत में लगभग चार वर्ष तक चली सुनवाई के बाद अपना निर्णय सुनाया था.

गौरतलब है कि हिसार के सतलोक आश्रम के संचालक 67 वर्षीय रामपाल और उसके अनुयायियों को नवम्बर 2014 में अरेस्ट किया गया था. पुलिस ने जब आश्रम के अंदर मौजूद रामपाल को गिरफ्तार करने करने की कोशिश की थी तो उसके लगभग 15 हजार अनुयायियों ने 12 एकड़ जमीन में फैले आश्रम को घेर लिया था ताकि स्वयं-भू बाबा की गिरफ्तारी नहीं हो सके. स्वयं-भू बाबा के अनुयायियों की हिंसा के कारण छह लोगों की मौत हो गई थी.रामपाल

रामपाल और उसके अनुयायियों के खिलाफ बरवाला पुलिस थाने में 19 नवम्बर, 2014 को दो मामले दर्ज किए गए थे. पहला मामला दिल्ली में बदरपुर के निकट मीठापुर के शिवपाल की शिकायत पर जबकि दूसरा मामला उत्तर प्रदेश में ललितपुर जिले के सुरेश ने दर्ज कराया था.

 

COMMENTS