शिवरात्रि विशेष: मुहूर्त को लेकर भ्रम में ना पड़ें- ये है व्रत, पूजा और मुहूर्त की जानकारी

शिवरात्रि विशेष: मुहूर्त को लेकर भ्रम में ना पड़ें- ये है व्रत, पूजा और मुहूर्त की जानकारी

यूँ तो साल में 12 शिवरात्रि ( हर महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मास शिवरात्रि कहते हैं) आती है लेकिन इनमें से दो शिवरात्रि विशेष होती है. पहल...

सावन में भगवान शिव की कृपा से पायें मनोवांछित फल, इस बार बन रहा है ये विशेष संयोग
सावन में ऐसे करें भोलेनाथ को प्रसन्न, सम्पूर्ण व्रत विधि एवं मुहूर्त
19 साल बाद बनेगा सावन में ये विशेष संयोग, करें भगवान शिव की आराधना हो जाओगे मालामाल

यूँ तो साल में 12 शिवरात्रि ( हर महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मास शिवरात्रि कहते हैं) आती है लेकिन इनमें से दो शिवरात्रि विशेष होती है. पहली तो महाशिवरात्रि होती है और दूसरी होती है सावन माह की शिवरात्रि. शिवरात्रि का त्यौहार देवाधिदेव महादेव को समर्पित हिन्दुओं का एक पवित्र और ख़ास त्यौहार है जिसे पुरे भारत में बहुत ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है.

सावन महीने में आने वाली शिवरात्रि को विशेष और शुभ माना जाता है. इस पुरे सावन माह में भगवान शिव का पूजन किया जाता है. सावन की शुरुआत के साथ ही दूर-दराज से भक्तगण भोले की कांवड़ लाने के लिए लंबी-लंबी यात्राएँ शुरू कर देते हैं. भोले के रंग में रंगे भक्तजन नाचते-गाते हुए कांवड़ यात्रा करते हैं. शिवरात्रि के दिन भक्तगण फाल्गुन माह में आने वाली महाशिवरात्रि की ही तरह मंदिरों में जाकर भगवान शंकर की पूजा करते है, उनका अभिषेक करते है, और व्रत आदि करते है.

साल 2018 की सावन माह की शिवरात्रि 9th अगस्त 2018, वीरवार को मनाई जाएगी. निशीथ काल में पूजा का सही समय रात्रि 24:05+ से 24:48+ तक बनता है मुहूर्त की कुल अवधि 43 मिनट की है. व्रत पारण का समय सुबह 5 बजकर 52 मिनट से लेकर दोपहर बाद 15 बजकर 44 मिनट तक (10 अगस्त 2018) है. आपको बता दें की 9 अगस्त 2018 को चतुर्दशी तिथि का प्रारंभ रात्रि 22 बजकर 45 मिनट पर होता है और चतुर्दशी तिथि का समापन 10 अगस्त 2018 को सायं 19 बजकर 07 मिनट पर होगा.

इस हिसाब से रात्रि के पहले प्रहर में पूजा का समय 19 बजकर 02 मिनट से लेकर 21 बजकर 44 मिनट तक है. जबकि रात्रि के दुसरे प्रहार में पूजा का समय रात्रि 21 बजकर 44 मिनट से लेकर 24 बजकर 26 मिनट या बारह बजकर 26 मिनट (10 अगस्त के) तक रहेगा. इसी प्रकार रात्रि के तीसरे प्रहार में पूजा का समय 24 बजकर 26 मिनट से लेकर 27 बजकर 09 मिनट अर्थात अगली तारीख (10 अगस्त) के रात्रि बारह बजकर 26 मिनट से लेकर अलसुबह 3 बजकर 9 मिनट तक रहेगा और रात्रि के चौथे प्रहार में पूजा का समय 27 बजकर 09 मिनट से लेकर 29 बजकर 51 मिनट तक रहेगा यानी 10 अगस्त के 3 बजकर 9 मिनट से लेकर सुबह पांच बजकर 51 मिनट तक रहेगा.

COMMENTS

WORDPRESS: 1
  • comment-avatar

    […] से दो शिवरात्रि विशेष होती है. पहल…Read More khabridada 0 August 1, […]