शराब ही नहीं खैनी पर भी बैन लगाने की तैयारी में सरकार, जल्द हो सकता है फैसला

शराब ही नहीं खैनी पर भी बैन लगाने की तैयारी में सरकार, जल्द हो सकता है फैसला

बिहार में नीतीश सरकार शराबबंदी के दो साल बाद एक और बड़ा कदम उठाने की तैयारी में है. अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो जल्द ही राज्य में खैनी पर भी बैन लग जायेग...

सुलझ गया गौरी लंकेश हत्याकांड का राज, हत्यारे ने बताया हत्या करने के पीछे ये चौंकाने वाला कारण
विराट कोहली ने रच दिया इतिहास, सचिन, सहवाग और द्रविड़ को छोड़ा पीछे
100 के पार पहुंची इन पम्पों पर पेट्रोल की कीमतें, बंद हुई मशीनें- बुलाने पड़े इंजीनियर

बिहार में नीतीश सरकार शराबबंदी के दो साल बाद एक और बड़ा कदम उठाने की तैयारी में है. अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो जल्द ही राज्य में खैनी पर भी बैन लग जायेगा. इस बाबत राज्य सरकार ने केंद्र सरकार को एक पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि खैनी को खाद्य उत्पाद के रूप में सूचित किया जाये. आपको बता दें कि FSSAI अर्थात खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण द्वारा खैनी को खाद्य उत्पाद के रूप में अधिसूचित कर दिया जाता है तो राज्य सरकार के पास खैनी को स्वास्थ्य आधार पर बैन करने की शक्ति आ जाएगी.

अपने बेटे को पढ़ाई का महत्व समझाने के लिए दिखाएँ ये तस्वीरें, कसम से जी लगाकर पढ़ेगा


एक प्रतिष्ठित न्यूज़ चैनल से बात करते हुए बिहार के प्रधान सचिव (स्वास्थ्य) संजय कुमार ने पुष्टि की कि उन्होंने केंद्र सरकार को एक पत्र लिखा है. उन्होंने खैनी के इस्तेमाल पर बात करते हुए कहा कि राज्य में हर पांचवां शख्स खैनी खाता है जो की स्वास्थ्य के लिहाज से बहुत ही खतरनाक है. उन्होंने बताया की हमारे पास सिगरेट के रूप में तंबाकू के इस्तेमाल को नियंत्रित करने करने के नियम है जिन पर ध्यान देने की आवश्यकता है.

अगर आपके मोबाइल में ये लक्षण नज़र आयें तो हो जाएँ सावधान, हो सकता है ब्लास्ट

संजय कुमार के अनुसार पिछले एक दो साल में राज्य में तंबाकू की खपत में आश्चर्यजनक गिरावट दर्ज़ की गई है. उन्होंने कहा कि पिछले सात सालों में तंबाकू की खपत 53 प्रतिशत से घटकर महज 24 प्रतिशत रहा गई है लेकिन खैनी के रूप में कच्ची तंबाकू खाने वालों की संख्या चिंताजनक है. आपको बता दें कि मुंह के कैंसर होने में तंबाकू का मुख्य कारण है.

COMMENTS