सुलझ गया गौरी लंकेश हत्याकांड का राज, हत्यारे ने बताया हत्या करने के पीछे ये चौंकाने वाला कारण

सुलझ गया गौरी लंकेश हत्याकांड का राज, हत्यारे ने बताया हत्या करने के पीछे ये चौंकाने वाला कारण

एसआईटी द्वारा पत्रकार और एक्टिविस्ट गौरी लंकेश की हत्या के केस की कमान संभालने के बाद एसआईटी ने हत्यारों को पकड़ने का दावा किया है. गौरी लंकेश की हत्या...

मौसम: मानसून ने बदली करवट, इस महीने के पहले सप्ताह इन राज्यों में होगी भारी बारिश
क्लर्क की मामूली चूक- लिखना भुल गया ये दो शब्द, अब 42 साल बाद तीसरी पीढ़ी को मिला न्याय
सड़क हादसे में पीएम मोदी की पत्नी घायल, सरकारी आदेशों की अवहेलना पड़ी भारी- एक की मौत

एसआईटी द्वारा पत्रकार और एक्टिविस्ट गौरी लंकेश की हत्या के केस की कमान संभालने के बाद एसआईटी ने हत्यारों को पकड़ने का दावा किया है. गौरी लंकेश की हत्या करने वाले को एसआईटी गिरफ्तार कर चुकी है. आरोपी ने किया अपना जुर्म कबूल कर लिया है. 26 साल के हत्यारे परशुराम वाघमोरे को उत्तरी कर्नाटक के स्थान विजयपुरा से एसआईटी द्वारा किया गया गिरफ्तार. परशुराम वाघमोरे ने बयानदिया कि मई 2017 को उसे कहा गया था कि हमें अपने धर्म की रक्षा के लिए किसी की हत्या करनी होगी. पश्चाताप करते हुए वाघमोरे ने कहा, मुझे एक महिला को नहीं मारना चाहिए था.

इन राज्यों में छाया बाढ़ का कहर, अब तक 12 की मौत और चार लाख से अधिक हुए प्रभावित

एसआईटी के सामने हत्यारे वाघमोरे ने कबूल किया कि उसे 3 सितंबर को बेंगलुरु लाया गया और बेलगावी में उसे एयरगन की ट्रेनिंग दी गई. बाघमारे ने बयान अनुसार,  सबसे पहले उसे एक घर में ले जाया गया और दो घंटे बाद वहीं से एक बाइक सवार ने उसे ले जाकर उस घर को दिखाया, जहां वाघमोरे द्वारा किसी को गोली से मारना था. अगले दिन, एक बाइक सवार उसे बेंगलुरु के एक दूसरे घर में ले गया जहाँ घर में पहले से मौजूद एक शख्स मुझे उसे फिर से आरआर नगर ले गया. वहां पर शाम तक रखा गया.

बाघमोरे ने कहा कि मैं अपना काम आज ही खत्म कर दूंगा. परन्तु गौरी लंकेश उस दिन को जल्दी घर आ गई थी. उसके बाद 5 सितंबर को शाम 4 बजे के आसपास उसे गन दी गई. उसके बाद शाम ढलते ही वे उसके घर के पास जा पहुंचे. गौरी ने घर के बाहर अपनी कार रोकी और जब हत्यारा उनके पास पहुंचा तो वह कार का गेट खोल रही थीं. उसी समय उन पर चार गोलियां चलाई फिर वे वापस चले गए और उसी रात शहर छोड़ दिया. इस मामले में एसआईटी का कहना है की वाघमोरे के साथ उस दिन अलग–अलग समय पर कम से कम तीन लोग थे, परन्तु वाघमोरे ने तीनों को जानने से इनकार कर दिया है.

सब्जी बेचने वाले को निकली सवा करोड़ की लॉटरी, जब पैसे लेने पहुंचा तो खिसक गई पैरों तले से जमीन

COMMENTS