भविष्य में होने वाली घटनाओं का पूर्वाभास और आत्म शक्ति जगाने का अचूक सूत्र

भविष्य में होने वाली घटनाओं का पूर्वाभास और आत्म शक्ति जगाने का अचूक सूत्र

हमने कई बार देखा या सुना होगा की किसी साधू पुरुष ने या किसी सिद्ध योगी (Proven yogi) ने भविष्य के बारे में बताया और समय आने पर वो बात एकदम सच साबित हु...

मौसम: अब तक की रिपोर्ट, कहीं बारिश- कहीं ओले और कहीं बर्फबारी, अब आगे की रिपोर्ट
अब बिना सिम चलेगा आपका मोबाइल, सरकार ने दी ई-सिम को मंजूरी, अब ग्राहक ले सकेंगे 18 सिम
एयरटेल से मिलकर नोकिया ने पेश किया ‘मेरा पहला स्मार्टफोन’, 2000 कैशबैक सहित अनलिमिटेड डाटा और कालिंग

हमने कई बार देखा या सुना होगा की किसी साधू पुरुष ने या किसी सिद्ध योगी (Proven yogi) ने भविष्य के बारे में बताया और समय आने पर वो बात एकदम सच साबित हुई. कुछ लोगों को किसी घटना सा पूर्वानुमान (Foreshadowing) हो जाता है और वो किसी बड़ी घटना का पहले से संकेत दे देते हैं. कई बार हम देखते है की कोई व्यक्ति किसी ख़ास जगह से जैसे ही हटता है उसी जगह कुछ ही समय बात कोई दुर्घटना घट जाती है. आखिर ये सब कैसे हो जाता है? कैसे किसी को होने वाली घटना का पूर्वाभास (Foreshadowing) हो जाता है? क्या ऐसा कोई तरीका है जिससे इस प्रकार की घटनाओं के होने से पहले ही पता लगाया जा सके?

पूर्वाभास

ऊपर लिखे सभी सवालों के जवाब में हम कह सकते हैं की yes बिलकुल, ऐसा हो सकता है. बल्कि यूँ कहें की इसे किसी भी व्यक्ति द्वारा सीखा भी जा सकता है. वैसे तो आध्यात्मिक या पराविज्ञान (Parasitology) अपने आप में एक बहुत बड़ा विज्ञान है जिसे सीखने के लिए बहुत से नियम कायदे और साधना के साथ सतत अभ्यास की जरूरत होती है. जिसे यहाँ पर ना तो बताया ही जा सकता है और ना ही आप इसे यहाँ पढ़कर सीख ही सकते हो. लेकिन कुछ साधारण से अभ्यास को करके हम आने वाली घटनाओं का पूर्वानुमान कर सकते हैं. जिसे कुंडलिनी या छट्टी इंद्री जगाना भी कहते हैं.

बहुत गहराई में ना जाते हुए हम अगर इसके बेसिक के बारे में बात करें तो आप महज एक मामूली अभ्यास से इस विद्या को प्राप्त कर सकते हो. मान लो जब भी हम किसी को धोखा देते हैं या देने की कोशिश करते हैं. अथवा किसी के दुख का कारण बनते हैं या कुछ भी ग़लत करते हैं तो उसी समय हमारे अन्दर से एक आवाज़ आती है की मुझे ऐसा नही करना चाहिए. हमारा अंतर्मन हमें ऐसा करने से रोकता है. जिसे हम आमतौर पर आत्मा की आवाज कहते हैं.

ये जो आवाज़ है ये कोई साधारण व्यक्ति या मन की आवाज़ नही है बल्कि एक ऐसी शक्ति की आवाज़ है जिसने इस पुरे ब्रह्माण्ड की रचना की है. अगर आप इस आवाज़ को गंभीरता से लोगे इसकी हर बात ध्यान से सुनोगे और इसकी पालना करने की कोशिश करोगे तो घीरे घीरे ये शक्ति आपकी मित्र बनती चली जायेगी और क़दम क़दम पर आपका मार्ग दर्शन करेगी. सिर्फ आपको किसी भी काम के करने से पहले अंतर्मन या अंतरात्मा की आवाज सुनने की कोशिश करनी है.

पूर्वाभास

अगर आपने इस आवाज को इग्नोर करने की कोशिश की या इसकी आवाज नहीं सुनी तो फिर आपकी रक्षा दुनिया की कोई भी ताक़त नही कर पायेगी और ना ही आप कभी सुखी रह पायेंगे. ये जो आपके अन्दर है इस संसार में इससे ज़्यादा ज्ञानवान और शक्तिशाली दुसरा कोई और नही है. अगर आपने इससे मित्रता कर ली तो फिर आपको किसी भी चीज़ की ज़रूरत नहीं पड़ेगी. आप जो चाहेंगे वो ही होगा और सारी दुनिया आपके क़दमों में होगी.

इसके निरंतर अभ्यास से आप किसी भी काम या व्यक्ति जिसके इरादे ठीक ना हो, उसे देखकर आप पहले ही समझ जाओगे अर्थात आपको पूर्वाभास हो जायेगा. किसी व्यक्ति विशेष को सामने देखकर आप पल में ही ये समझ जाओगे की ये किस नेचर का इंसान है और इसके इरादे क्या हैं. असल में ये, वो ही “भगवान”है जिसे हम रोज़ मन्दिर में तलाशने जाते है पर वहाँ वो नही रहते वो हमारे अंदर ही रहते हैं लेकिन हम उसे पहचानने में ही भूल कर जाते हैं.