मंडप में इंतज़ार कर रहा था दूल्हा, 20 किलोमीटर दूर बैठी दुल्हन कर रही थी ये काम

मंडप में इंतज़ार कर रहा था दूल्हा, 20 किलोमीटर दूर बैठी दुल्हन कर रही थी ये काम

महाराष्ट्र के औरंगाबाद की बारहवीं कक्षा की एक छात्रा ने पढ़ाई के महत्व और प्रतिबद्धता की नई मिशाल पेश की है. अपने जीवन में लक्ष्य को हासिल करने और नई उ...

जिओ के नए ऑफर ने उड़ाई टेलिकॉम कंपनियों की नींद, 500 कैशबैक के साथ उतारा सबसे सस्ता प्लान
अब ट्रेनों में लिखा जायेगा- कृपया टिप नहीं दें, अगर बिल नहीं मिला तो खाना होगा मुफ्त
वर्ल्ड किडनी डे: ये पौधा कर देता है बीमार गुर्दे को ठीक, शोध में आये चौंकाने वाले नतीजे

महाराष्ट्र के औरंगाबाद की बारहवीं कक्षा की एक छात्रा ने पढ़ाई के महत्व और प्रतिबद्धता की नई मिशाल पेश की है. अपने जीवन में लक्ष्य को हासिल करने और नई उंचाईयों को छूने की तमन्ना ने उसे उस कठिन परिस्थिति में भी हौसला दिया, जब उसे शादी या करियर में से किसी एक को चुनना था. उसने परिस्थियों से ना घबराते हुए ऐसा फैसला लिया जिससे अबउसकी चारों और वाहवाही हो रही है और वो दूसरों के लिए भी एक प्रेरणा बनकर उभरी है.Bride in exam centre

रेणुका की शादी शनिवार को होनी सुनिश्चित हुई थी और उसी दिन रेणुका का अर्थशास्त्र का पेपर था. दूल्हा शादी समारोह में दुल्हन का इंतजार कर रहा था लेकिन दुल्हन अर्थशास्त्र विषय की परीक्षा देने परीक्षा केन्द्र गई हुई थी. हरसुल गांव की निवासी 20 साल की रेणुका पवार की शनिवार को एक सामूहिक विवाह समारोह में शंकर से शादी होनी थी.

जानकारी के मुताबिक जिस दिन उसकी शादी होनी थी, उसी दिन उसकी बारहवीं कक्षा की परीक्षा थी. रेणुका ने कहा कि उसने पहले ही कह दिया था कि शादी की तारीख इस तरह से तय की जाए कि उसकी परीक्षा की तारीख से अलग हो. पिता की मौत के बाद मुश्किल समय गुजारने वालीं और गरीब परिवार से आने वालीं रेणुका ने कहा कि उसके लिए शिक्षा महत्वपूर्ण है और उसने यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत की कि उसकी पढाई नहीं छूटे.Bride in exam centre

शनिवार को दोपहर करीब सवा दो बजे रेणुका परीक्षा देकर जैसे ही वह विवाह स्थल पहुंची, वहां तीन शादियों के लिए एकत्रित हुए लोगों ने उसका स्वागत तालियां बजाकर किया. कुछ समय उपरांत, उसकी और शंकर विवाह बंधन में बंध गये. उपस्थित लोगों ने रेणुका का पढ़ाई के प्रति जज्बा देखा तो उसकी मुक्त कंठ से प्रशंसा की. दुल्हे और उसके परिवार ने भी उसकी पढ़ाई के प्रति लगन देखकर आगे भी उसकी पढ़ाई जारी रखने का वादा किया.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0