दीपावली पर खूब छुडाएं पटाखे लेकिन इन सावधानियों को ध्यान में रखकर

दीपावली पर खूब छुडाएं पटाखे लेकिन इन सावधानियों को ध्यान में रखकर

दीपावली का सभी को बेसब्री से इंतजार होता है. बुराई पर अच्छाई की विजय के उपलक्ष में ख़ुशी जाहिर करने के लिए दीपावली को प्राचीन समय से निरंतर मनाया जाता ...

इंडोनेशिया विमान हादसे से दहल उठी दुनिया, जानिए क्या है इस दुर्घटना से भारत का कनेक्शन
23 जुलाई से थम जायेंगे सभी शुभ और मांगलिक कार्य, जानिए देवशयनी एकादशी का महत्व और प्रभाव
सलमान खान के परिवार पर लगा एक और कलंक, अरबाज़ खान का नाम इस रैकेट से जुड़ा

दीपावली का सभी को बेसब्री से इंतजार होता है. बुराई पर अच्छाई की विजय के उपलक्ष में ख़ुशी जाहिर करने के लिए दीपावली को प्राचीन समय से निरंतर मनाया जाता रहा है. दीपावली हो और घर में मिठाई ना आये ये हो ही नहीं सकता. लेकिन आज के समय में खाने के विभिन्न सामानों में मिलावट देखने को मिलती है. ऐसे में खाने की चीजों में मिलावट लाखों का खर्चा बन सकती है. इस त्यौहार घर पर बनी मिठाईयों का प्रयोग करें. बाहर की मिठाई प्रयोग करने दशा में उन्हें छोटे बच्चों को ना खिलाएं या कम खिलाएं. क्योंकि दूषित मिठाई या नकली घी आदि से बनी मिठाई का बच्चों और बीमारों पर जल्दी असर होता है.दीपावली

इसके अलावा तली हुई खाने की चीजें मीठा खाने के बाद काफी स्वादिष्ट लगती है लेकिन शरीर उसको आसानी से हजम कर ले तो अच्छा अन्यथा एक दिन की ख़ुशी हफ्ते भर के लिए भारी पड़ जाती है. याद रखें की तली हुई चीजें या तो कम खाएं या फिर उन्हें खाने के बाद ठंडा पानी पिने से परहेज करें. ऐसा करना तकलीफदायक हो सकता है.

एसिडिटी की समस्या का कारण लगभग यही होता है की शरीर खाने की वस्तु को पचाने में ज्यादा समय लेता है. मिठाई खाने के बाद यदि आपने नमकीन खाते है तो शरीर उसे बहुत कठिनाई से पचाता है. स्वस्थ रहने के लिए सावधानी सबसे बड़ी दवाई होती है केवल सावधानी रखना कठिन होता है.दीपावली

ख़ुशी जाहिर करने के लिए बच्चे पटाखे आदि का इस्तेमाल करते है लेकिन अक्सर इससे जलने का डर भी बना रहता है. बचाव करने के लिए कम्पनी द्वारा निर्मित सामान खरीदना उचित रहता है. लेकिन साथ ही बच्चों के पटाखे छोड़ते समय पास में बड़ों का उपस्थित रहना आवश्यक है.

कई बार बच्चे किसी के देखा देखी पटाखे या आतिशबाजी हाथ में लेकर चलाने की कोशिश करते है, जो हद तक खतरनाक हो सकती है. कई बार पटाखों में बारूद की मात्रा थोड़ी कम ज्यादा हो जाये और पटाखा हाथ में फट जाए तो हाथ जलने की संभावना अधिक बढ़ जाती है.दीपावली

दीपावली का त्यौहार है ही खुशियों का, ऐसे मौके पर बच्चों को दिल खोलकर खुशियाँ मनाने का मौका दें लेकिन किसी बड़े-समझदार की निगरानी में. साथ ही ध्यान दें, जब भी आतिशबाजी करें तो उसका वेस्ट कहाँ गिर रहा है? ये जरूर ध्यान दें. किसी की छत पर, किसी की लकड़ी में या पशुओं के चारे आदि में जलती हुई चिंगारी भारी तबाही मचा सकती है. आप सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें…

COMMENTS

WORDPRESS: 3
DISQUS: 0