उत्तर भारत पर छाई धूल की चादर, प्रदूषण पहुंचा खतरनाक स्तर पर- जनजीवन हुआ प्रभावित

उत्तर भारत पर छाई धूल की चादर, प्रदूषण पहुंचा खतरनाक स्तर पर- जनजीवन हुआ प्रभावित

पिछले तीन दिनों से उत्तर भारत में खासकर हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली पर धूल की चादर छाई हुई है. राजस्थान से आ रही रेतीली मिट्टी जो तेज हवाओं के चलते उड़ र...

हार्दिक ने फोड़ा हार का ठीकरा EVM के सिर, बीजेपी को दी आन्दोलन की चेतावनी
चंद्रग्रहण के दुष्प्रभाव के नाम पर डरें नहीं, ग्रहण के दिन का उठायें विशेष फायदा
बाल-ब्रह्मचारी हनुमान थे विवाहित, दुनिया के एकमात्र इस मंदिर में विराजमान है पत्नी के साथ

पिछले तीन दिनों से उत्तर भारत में खासकर हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली पर धूल की चादर छाई हुई है. राजस्थान से आ रही रेतीली मिट्टी जो तेज हवाओं के चलते उड़ रही है वो वायुमंडल में प्रदूषण के स्तर को उच्च स्तर पर बनाये हुए है. मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि धूल की इस चादर से छुट्कारा सिर्फ तूफान और बारिश के द्वारा संभव हो सकता है.

महानायक अमिताभ बच्चन ने किया हॉर्लिक्स के विज्ञापन से इनकार, कहा- बच्चों के लिए है नुकसानदायक

वायु में धूल की मात्रा ज्यादा होने से साँस लेने और वायुयानों द्वारा यात्रा करना मुश्किल होता जा रहा है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार दिल्ली और आस-पास लगते इलाकों में वायव क्वालिटी इंडेक्स 500 के पार पहुंच चुका है स्थिति की गंभीरता को देखते हुए कुछ इलाकों में हाई अलर्ट घोषित किया जा सकता है.

दिल्ली में सभी निर्माणकार्यों को अगले दो-तीन दिनों के लिए रोक दिया गया है. उपराज्यपाल अनिल बैजल ने गुरुवार को पर्यावरण मंत्री और अफसरों के साथ बैठक में यह फैसला लिया की राजधानी में 17 जून तक निर्माण कार्यों पर पूर्ण रूप से रोक लगाई जाये. कई इलाकों में सिर दर्द, आँखों में जलन जैसी समस्याएं आ रही है. सबसे ज्यादा मुश्किल सांस के रोगियों को हो रही है.

मांगे नहीं मानने से नाराज हरियाणा के 100 दलितों ने किया धर्म परिवर्तन, जानिए क्या है मामला

वायुयानों की उड़ानों को रद्द किया जा रहा है, चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर 11 उड़ानें रद्द हुई. दिल्ली-एनसीआर का मौसम खराब होने का कारण ईरान और दक्षिण अफगानिस्तान की तरफ से आ रही धूल भरी हवाएं, जो  लगभग 20 हजार फीट की ऊंचाई से राजस्थान से होते हुए दिल्ली में दस्तक दे रही हैं. सडकों पर वाहनों की संख्या में हो रही वृद्धि भी धूल की चादर को गंभीर रूप देने में अपना योगदान दे रही है.

धूल से बचाव के लिए ऐसी भयंकर गर्मी में लोगों को मुहं पर मास्क लगाना पड़ रहा है. दमे जैसी बीमारीयों से पीड़ित रोगी के लिए धूल की चादर सबसे ज्यादा नुकसानदायक है. दिल्ली में प्रदूषण नियंत्रण के लिए सरकार कठोर कदम उठा सकती है.

दिखाईये अपना दिमागी कौशल, मोदी सरकार दे रही है इस चैलेंज को हल करने पर हज़ारों के इनाम

COMMENTS

WORDPRESS: 2
  • comment-avatar

    […] पिछले तीन दिनों से उत्तर भारत में खासकर हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली पर धूल की चादर छाई हुई है. राजस्थान से आ रही रेतीली मिट्टी जो तेज हवाओं के चलते उड़ र…Read More […]

  • comment-avatar