विकराल हुई घग्घर- 10 घंटे में 5 फुट तक बढ़ा जलस्तर, कई गाँवों का आपसी सम्पर्क टुटा

विकराल हुई घग्घर- 10 घंटे में 5 फुट तक बढ़ा जलस्तर, कई गाँवों का आपसी सम्पर्क टुटा

सिंचाई विभाग की कारगुजारी से स्थानीय लोग खफा- बोले हर वर्ष घग्घर प्रबंधन के नाम पर करोड़ो कहां खर्च कर रहा विभाग

सुमित विर्क सिरसा: घग्घर का जलस्तर लागतार बढ़ता जा रहा है, पिछले 10 घंटों में इसमें करीब 5 फुट तक बढ़ौतरी हुई है । जिससे आस-पास के किसानों व आम लोगों मे...

ऐलनाबाद: रक्तदान शिविर में 95 महादानीयों ने पाया रक्तदाता होने का सौभाग्य, प्रशंसा पत्र व मेडल से हुए सम्मानित
गणतन्त्र दिवस के मौके पर सिरसा जिले को सीएम की सौगात, इस सुविधा वाला सिरसा होगा हरियाणा का चौथा जिला
सतलोक आश्रम के स्वयंभू ‘बाबा’ रामपाल और 15 अन्य को हत्या के मामलों में उम्रकैद
सुमित विर्क सिरसा: घग्घर का जलस्तर लागतार बढ़ता जा रहा है, पिछले 10 घंटों में इसमें करीब 5 फुट तक बढ़ौतरी हुई है । जिससे आस-पास के किसानों व आम लोगों में चिंता बढ़ने लगी है । उधर प्रशासन व सिंचाई विभाग द्वारा प्रबंधन कार्य तेज कर दिए है । जिसे देखकर स्थानीय लोगों में रोष है, उनका कहना है कि बिना खतरे के यह लोग भी नहीं जागते । हर वर्ष घग्घर के नाम पर विभाग करोड़ो रूपये खर्च कर देता है, मगर जमीनी स्थिती कुछ ओर ही है । अगर विभाग समय रहते प्रबंधन करे तो ऐसी स्थिती नहीं बनती ।
घग्घर के किनारे बसे गांवों के कोमल सिंह, भूपेन्द्र सिंह, ठाकुर सिंह, सुखदेव सिंह, रिछपाल सिंह, बलविन्द्र सिंह, गुरभेज सिंह आदि ने बताया कि वे लोग सुबह से निरंतर बढ़ रहे पानी को देख रहे हैं । नदी का पानी इस कदर तेज है कि गत 10 घंटों में करीब 5 फुट तक जलस्तर बढ़ा है । जैसे -जैसे पानी बढ़ रहा है, उन लोगों की चिंता भी बढ़ रही है, ऐसा ही रहा तो अगले दो दिनों में ग्रामीणों को स्वयं निंगरानी शुरू करनी पड़ेगी ।

 घग्घरकई गांवों का आपस में संपर्क टूटा

————————
पानी का जलस्तर बढ़ने से घग्घर के दोनों ओर बसे गांवों का आपस में संपर्क टूट चुका है । सभी गांवों द्वारा घग्गर पार करने के लिए बनाए गए आरजी पूल डूब चुके है । इलाके में से 6 पुल हैं  जो सभी  पूरी तरह से डूब गए  हैं । इनमें  मस्तान गढ़ संत नगर  को अमृतसर, नाकोड़ा को शेखू खेड़ा,  कृपाल पट्टी । करीवाला से  दया सिंह खेड़ी तलवाड़ा खुर्द, कुत्ताबढ से रानियां,  हर्निया से ठोबरिया आदि  शामिल है । ग्रामीणों को इधर-उधर जाने के लिए कई-कई किलोमीटर दूर से होकर आना-जाना पड़ रहा है

 विभाग की कारगुजारी को लेकर रोष

——————-

उधर इन लोगों में विभाग की कारगुजारी को लेकर भी रोष है । उनका कहना है कि विभाग की गलती है कि आज खतरा महसूस हो रहा है । उन लोगों ने खबरों में पड़ा था कि विभाग हर साल घग्घर के नाम पर करोड़ो रूपये हजम कर जाता है । अभी हाल ही में कुछ अधिकारियों पर तलवाड़ा के सुरेन्द्र सरदाना की आरटीआई के तहत कार्रवाई भी हुई है । विभाग समय रहते इसके तटबंधों पर काम करें तो ऐसी खतरे वाली स्थिती नहीं बनती । प्रशासन की अभी नींद खुलना, उसकी कारगुजारी को बयां करता हैं ।  घग्घर
  • घग्गर के विकराल रूप को देखते हुए उनकी डयूटी घग्घर क्षेत्र में लगाई गई है । आज उन्होंने ओटू से लेकर राजस्थान साईफन तक दौरा कर, जगह-जगह मिट्‌टी आदि गिरवाने का कार्य किया है । सभी गांवों के रास्तो को मजबूत किया गया है । राजस्थान साईफन पर भी सफाई का कार्य तेजी से किया जा रहा है, ताकि पानी के बहाव में निरंतरता बनी रहे ,पीछे तटबंधों पर ज्यादा दबाव न आए ।
रघवीर सिंह, जेई सिंचाई विभाग