Whatsapp,Facebook पर अफवाह फैलाने वालों की अब खैर नहीं, मोदी सरकार बना रही है सख्त नियम

Whatsapp,Facebook पर अफवाह फैलाने वालों की अब खैर नहीं, मोदी सरकार बना रही है सख्त नियम

सोशल मीडिया पर आये दिन किसी न किसी अफवाह की वजह से हिंसा की ख़बरें आती रहती है. इन घटनाओं पर नज़र डाली जाए तो इनके मूल में फेक न्यूज़ और अफवाहों का ही मु...

अब फेसबुक करेगा आपकी चुगली, भिजवा सकता है जेल
WhatsApp का नया अपडेट, अब एडमिन दे सकेगा किसी भी सदस्य को ‘सजा’, फेक न्यूज़ पर लगेगी रोक
आपत्तिजनक फोटो व्हाट्सएप ग्रुप में डालने पर ग्रुप एडमिन की हत्या

सोशल मीडिया पर आये दिन किसी न किसी अफवाह की वजह से हिंसा की ख़बरें आती रहती है. इन घटनाओं पर नज़र डाली जाए तो इनके मूल में फेक न्यूज़ और अफवाहों का ही मुख्य कारण होता है. लेकिन अब सरकार ने इन अफवाहों पर अंकुश लगाने की तैयारी कर ली है. इस बारे में कानून एवं आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार (19 जुलाई) को राज्यसभा में कहा कि सोशल मीडिया का दुरुपयोग रोकने के लिए एक नीति तैयार की जाएगी.

सरकार इसके लिए जल्दी ही सभी राजनीतिक दलों से सलाह-मशविरा करेगी. सभापति एम. वेंकैया नायडू के सुझाव पर टिप्पणी करते हुए रविशंकर प्रसाद ने इस बारे में सरकार की मंशा जाहिर की. इससे पहले भी कुछ सदस्यों ने सोशल मीडिया द्वारा फैलाई जा रही अफवाहों और भीड़ द्वारा पीट-पीटकर हत्या के मामलों पर चिंता जाहिर की थी.

सभापति ने कहा की आज के समय में सोशल मीडिया एक सशक्त माध्यम बनकर उभर रहा है लेकिन इसके दुरूपयोग को हम हल्के में नहीं ले सकते. ये एक व्यापक, गंभीर और अति संवेदनशील मुद्दा है जिसे नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि हम एकतरफा फैसला नहीं कर सकते. अगर सरकार कोई कदम उठाए तो उसकी आलोचना और विरोध होगा.

सभापति ने इस बारे में एक राष्ट्रीय नीति बनाने के लिए सभी राजनीतिक दलों को विचार-विमर्श करने और सरकार को सुझाव देने को कहा है. आपको बता दें की सोशल मीडिया के दुरुपयोग का मुद्दा जदयू के हरिवंश ने शून्यकाल में उठाया और कहा कि 2010 से अब तक सोशल मीडिया से फैली अफवाहों के कारण 33 लोगों की जान जा चुकी है.

COMMENTS