दो साल के बच्चे ने बचाई 6 जिंदगी, सबसे कम उम्र में बना डाला ये रिकॉर्ड

दो साल के बच्चे ने बचाई 6 जिंदगी, सबसे कम उम्र में बना डाला ये रिकॉर्ड

अगर कोई आपसे कहे की महज दो साल के बच्चे ने 6 जिंदगियां बचा ली, तो आप यकीन नहीं करोगे की ऐसा भी कहीं होता है? लेकिन ये सौ फीसदी सच है. देश की आर्थिक रा...

अभी अभी: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में बड़ा आतंकी हमला, 12 जवान शहीद 12 गंभीर
सरकार की नई नीति, अब ‘शराबबंदी’ की तरह ‘जुआबंदी’ भी
अमेरिका ने दिखाया भारत से मित्रता का दम, पाकिस्तान को दिया ये बड़ा झटका

अगर कोई आपसे कहे की महज दो साल के बच्चे ने 6 जिंदगियां बचा ली, तो आप यकीन नहीं करोगे की ऐसा भी कहीं होता है? लेकिन ये सौ फीसदी सच है. देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में दो साल के बच्चे ने 6 ज़िंदगिया बचाई हैं, इसके साथ ये बच्चा सबसे कम उम्र का अंगदाता भी बन गया है. दरअसल, दो साल के बच्चे का ब्रेन डेड हो गया था जिसके बाद उसके अंगों को दाल करने का निर्णय लिया गया और गम्भीर बिमारी से पीड़ित 6 लोगों को जीवनदान दिया गया.smallest organ donner

बच्चे को इलाज के लिए मुंबई के बोम्बे अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. रविवार को डॉक्टरों ने बच्चे को ब्रेन डेड घोषित कर दिया, जिसके बाद परिवार ने अंग दान करने का फैसला लिया. बच्चे का हार्ट, किडनी, लिवर और आंखें दान कर दी गईं है.

जानकारी के अनुसार दो साल के मासूम को 4 फरवरी को बॉम्बे अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती किया गया था. जहां इलाज के दौरान रविवार को उसकी स्थिति और भी खराब हो गई और डॉक्टरों ने उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया. अस्पताल से मिली जानकारी के मुताबिक बच्चे को ब्रेनस्टेम ट्यूमर था. ब्रेन डेड की खबर सुनते ही अभिभावक का कलेजा दर्द से फट गया, लेकिन शोक और दु:ख की इस घड़ी में भी वे मानवता नहीं भूले और बच्चे का अंगदान करके दूसरों की जिंदगी बचाने का फैसला लिया.smallest organ donner

बच्चे के मातापिता पुणे के रहने वाले हैं. बॉम्बे अस्पताल के अनुसार, बच्चे का हार्ट चेन्नै स्थित अपोलो अस्पताल में भेजा गया है. वहीँ, एक किडनी लीलावती अस्पताल, जबकि दूसरी ग्लोबल अस्पताल को भेजी गई है. जबकि लिवर ठाणे स्थित ज्यूपिटर अस्पताल को दिया गया है. इसके अलावा बच्चे की आंख अंधेरी के एक आई बैंक को दी गई है. बॉम्बे अस्पताल के जनरल फिजिशियन गौतम भंसाली और वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अनिल शर्मा ने कहा कि बेहद कम उम्र में बच्चे को खोने के बाद भी अभिभावक दूसरों कि जिंदगी बचाने के बारे में सोचे यह बहुत बड़ी बात है.

COMMENTS