ये बैंक बिना KYC दे रहा है लोन, हजारों लोग उठा रहे हैं फायदा

ये बैंक बिना KYC दे रहा है लोन, हजारों लोग उठा रहे हैं फायदा

अगर कोई आपसे कहे की कोई बैंक बिना KYC के ही लोन दे रहा है तो ये सुनकर शायद आपको हैरानी होगी. लेकिन बात 100 प्रतिशत सही है की एक ऐसा बैंक भी है जो अपने...

सर्दियों में जरा संभलकर करें हीटर का प्रयोग, फायदे ही नहीं नुकसान भी बहुत है हीटर के
क्या है केंद्र की परिभाषा और उत्तरदायित्व? इंटरव्यू में सबसे अधिक पूछे जाने वाले प्रश्न
10 प्रतिशत आरक्षण: किसे और कैसे मिलेगा फायदा, जानिए हर सवाल का जवाब

अगर कोई आपसे कहे की कोई बैंक बिना KYC के ही लोन दे रहा है तो ये सुनकर शायद आपको हैरानी होगी. लेकिन बात 100 प्रतिशत सही है की एक ऐसा बैंक भी है जो अपने ग्राहकों को बिना KYC के ही लोन दे रहा है. आश्चर्य इस बात का कि बैंक ने अब तक हज़ारों लोगों को लोन दिया भी है, लेकिन बावजूद इसके बैंक का NPA शून्य है.non kyc loan

जी हाँ, हम बात कर रहे है अहमदाबाद के कोऑपरेटिव बैंक की जहाँ बिना KYC के लोन मिलता है. दरअसल, अहमदाबाद का कालूपुर कमर्शियल कोऑपरेटिव बैंक 1970 में कालूपुर नाम के एरिया में शुरू हुआ था, इसलिए बैंक का नाम भी उस एरिया के नाम से रखा गया है. आपको जानकर हैरानी होगी कि बैंक का एनपीए जीरो है फिर भी बैंक कुछ लोन इस तरह से देते हैं कि जिनका कोई केवाईसी होता ही नहीं है.

बैंक की तरफ से बिना KYC के जो लोन दिया जाता है उनमें अधिकतर लोग बंजारा जाती के हैं, बंजारा मतलब घुमने-फिरने वाली जाती. उन्हें इस बैंक द्वारा बड़े पैमाने पर लोन दिया जाता है. अब तक बैंक द्वारा कुल ऐसे 1800 लोगों को लोन दिया गया है जिनमें से ज्यादातर लोगों का केवाईसी था ही नहीं. फिर कुछ एनजीओ के मध्यस्थता के कारण बैंक उनको लोन देने के लिए आगे आए. हालांकि बैंक का उद्देश्य यही है कि जो पिछड़े लोगो को भी बैंकिंग सिस्टम का लाभ मिले.non kyc loan

आपको जानकर आश्चर्य होगा की अब तक 1800 लोगो को कुल 7 करोड़ से अधिक का लोन दिया है और लोग पैसे भी लौटा रहे है. पिछले 10 साल में KYC के बगैर के लोन में सिर्फ डेढ़ लाख रुपये ही वापस नहीं आए. बैंक का कहना है की इनमें से अधिकतर लोगों को 50 हज़ार तक का ही लोन दिया गया है ताकि वो अपना बिज़नस शुरू कर सके. बैंक अधिकारीयों का कहना है की परिणाम अच्छा मिला है, लोन लेने वाले लोगों में अधिकतर लोग घूम-घूमकर झाड़ू वगैरा बनाकर बेचते हैं लेकिन फिर भी महीने की एक निश्चित तारीख को वो बैंक में अपनी क़िस्त जमा करना नहीं भूलते है.

COMMENTS